राजस्थान में रेजीडेंट्स डॉक्टरों की हड़ताल खत्म, मरीजों को मिली राहत...

रेजीडेंट्स गुरुवार देर रात से ही काम पर लौटना शुरू कर दिया. चिकित्सा शिक्षा सचिव वैभव गालरिया ने बताया कि रेजीडेंट्स से लगभग सभी बिन्दुओं पर सहमति बन गई है. 

राजस्थान में रेजीडेंट्स डॉक्टरों की हड़ताल खत्म, मरीजों को मिली राहत...
चिकित्सा मंत्री डॉक्टर्स की हड़ताल समाप्त होने पर संतोष व्यक्त किया है.

जयपुर: प्रदेश में तीन दिनों से चल रही रेजीडेंट्स डॉक्टरों की अनिश्चितकालीन हड़ताल आखिरकार गुरूवार देर रात समाप्त हो गई. रेजीडेंट्स गुरुवार देर रात से ही काम पर लौटना शुरू कर दिया. चिकित्सा शिक्षा सचिव वैभव गालरिया ने बताया कि रेजीडेंट्स डॉक्टरों से लगभग सभी बिन्दुओं पर सहमति बन गई है. उन्होंने बताया कि सुरक्षा व्यस्था में रेस्को के तहत लगे गॉड्स के अलावा ट्रेनिंग प्राप्त नए गाड्र्स के लिए नए टेण्डर निकाले जाएगें. 

वहीं, एक लाख तक बढ़ी हुई फीस को रिवाइज कर 20 हजार किए जाने के लिए फाइनेंस डिपार्टमेंट को प्रस्ताव भेजा जाएगा. इसके अलावा फ्रेश पीजी स्टूडेंट्स जिनका हॉस्टल में कमरा नहीं मिल पाता है. उनके लिए 2500 रूपए तक का स्टाइफण्ड देने सहित अन्य मांगों पर सहमति बन गई है.

चिकित्सा मंत्री ने किया आभार व्यक्त
चिकित्सा मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने रेजीडेंट्स डॉक्टरों की हड़ताल समाप्त होने पर संतोष व्यक्त किया है. उन्होंने कहा है कि सरकार शुरू से ही रजीडेंट्स डॉक्टर्स की मांगों पर सकारात्मक रूख के साथ विचार कर रही थी. उन्होंने रजीडेंट्स द्वारा उनकी बात पर विश्वास व्यक्त करते हड़ताल समाप्त करने के निर्णय के लिए आभार व्यक्त किया.इस दौरान उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री की भावना के अनुरूप सब मिलकर निरोगी राजस्थान का संकल्प पूरा करेगें.

प्रदेश के रेजीडेंट्स डॉक्टरों सुरक्षा, फीस वृद्धि, एचआरए सहित अन्य मांगो को लेकर मंगलवार से अनिश्चितकालीन कार्य बहिष्कार किए हुए थे. इस दौरान उनकी सरकार से अलग-अलग चरणों में कई बार वार्ता भी हुई थी, लेकिन वे बेनतीजा निकली थी, लेकिन गुरूवार शाम को हुई वार्ता में सरकार ने उनकी जायज मांगों को मानने पर अपनी सहमति जताते हुए उन्हें फिर से काम पर लौट आने के लिए कहा था, जो उन्होंने स्वीकार कर लिया.