खान विभाग की एमनेस्टी योजना की समीक्षा, नवंबर के दूसरे सप्ताह तक 50% वसूली के निर्देश

एसीएस ने कहा कि एमनेस्टी योजना लागू होने से पूर्व जमा कराई गई राशि का समायोजन नहीं होगा. 

खान विभाग की एमनेस्टी योजना की समीक्षा, नवंबर के दूसरे सप्ताह तक 50% वसूली के निर्देश
प्रतीकात्मक तस्वीर.

विष्णु शर्मा, जयपुर: एसीएस माइंस डॉ. सुबोध अग्रवाल ने एमनेस्टी योजना में नवंबर के दूसरे सप्ताह तक 50 फीसदी राशि वसूली के निर्देश दिए हैं. विभाग ने बकायादारों से राशि वसूलने के लिए 31 दिसम्बर तक एमनेस्टी योजना शुरू कर रखी है. योजना में विभाग द्वारा सभी 49 कार्यालयों को लक्ष्य आवंटित कर भिजवाए जा चुके हैं.  

एसीएस अग्रवाल ने बुधवार को सचिवालय से वीसी के जरिए सभी 49 कार्यालयों के अधिकारियों से संवाद कायम किया. अग्रवाल ने कहा कि वसूली के सभी प्रकरणों को चिह्नित किया जा चुका है. इस योजना में 80 करोड़ 60 लाख रुपए की वसूली के लक्ष्य निर्धारित किए गए हैं. ऐसे में वसूली के सभी चिह्नित प्रकरणों में संबंधित से संपर्क कर राशि जमा कराने के लिए प्रेरित करें.

गौरतलब है कि खान मंत्री प्रमोद जैन भाया ने पिछले दिनों तीन महीने के लिए खनिज विभाग की बकाया एवं ब्याज माफी की एमनेस्टी योजना की घोषणा की थी. एमनेस्टी योजना में सर्वाधिक 6-6 करोड़ रुपए की वसूली जयपुर सर्कल के टोंक और अजमेर सर्कल के सेवर से होनी है.  योजना के  तहत दौसा, अजमेर, ब्यावर, नागौर, डूंगरपुर, राजसमंद, आमेट व निम्बाहेड़ा में अच्छी शुरुआत है. दौसा ने आवंटित लक्ष्य की 52 फीसदी राशि की वसूली की है. 

योजना से पहले की राशि का समायोजन नहीं
एसीएस ने कहा कि एमनेस्टी योजना लागू होने से पूर्व जमा कराई गई राशि का समायोजन नहीं होगा. सीमित अवधि के परमिटधारकों व निर्माण विभाग के ठेकेदारों द्वारा 31 मार्च 19 तक पेनल्टी राशि के मांग के प्रकरणों में वास्तविक देय रॉयल्टी की तीन गुणा राशि अर्थात दो गुणा अतिरिक्त राशि जमा कराने पर शेष मूल राशि और पूरी ब्याज की राशि माफ की जाएगी.  केंद्र सरकार की 10 फरवरी 2015 की अधिसूचना से 31 प्रधान खनिजों को अप्रधान खनिज घोषित किया गया है, इनके 10 फरवरी 15 से पहले के प्रकरणों में यह योजना लागू नहीं होगी.