जयपुर: कोरोना पॉजिटिव की देखभाल करेगा Robot, SMS अस्पताल ने की यह व्यवस्था

एसएमएस अस्पताल प्रशासन ने हेल्थ वर्क में संक्रमण के खतरे को रोकने के लिए दानदाताओं के सहयोग से यह व्यवस्था की है.

जयपुर: कोरोना पॉजिटिव की देखभाल करेगा Robot, SMS अस्पताल ने की यह व्यवस्था
इसका आइसोलेशन वार्ड में डेमोस्ट्रेशन शुरू किया गया है.

आशुतोष/कोटा: एसएमएस (SMS) अस्पताल में कोरोना वायरस (Coronavirus) पॉजिटिव मरीजों की देखभाल अब 'रोबोट' (Robot) करेगा. जी हां, फिर चाहे मरीजों को दवा देने का काम हो या फिर उन तक भोजन पहुंचाना हो. ये सभी काम हेल्थ वर्क के बजाय रोबोट करेगा.

दरअसल, एसएमएस अस्पताल प्रशासन ने हेल्थ वर्क में संक्रमण के खतरे को रोकने के लिए दानदाताओं के सहयोग से यह व्यवस्था की है. अस्पताल अधीक्षक डॉ. डीएस मीणा ने कहा कि कुल तीन रोबोट के लिए दानदाता ने एनओसी दी है. इनमें से एक रोबोट बुधवार को अस्पताल आ भी गया, जिसका आइसोलेशन वार्ड में डेमोस्ट्रेशन शुरू किया गया है.

संभवता गुरुवार से मरीजों को भोजन-दवा आदि की फेसेलिटी रोबोट ही उपलब्ध कराएगा. दरअसल, कोरोना वायरस पॉजिटिव मरीजों को बार-बार दवा, भोजन आदि देने के लिए हेल्थ वर्क को आइसोलेशन वार्ड में जाना पड़ता है. हर बार उन्हें पीपी किट पहननी पड़ती है, साथ ही संक्रमण का खतरा भी बना रहता है.

ऐसे में नई व्यवस्था पर विचार किया गया, ताकि मरीज शत प्रतिशत आइसोलेशन में रह सके. मीणा ने कहा कि अब सिर्फ मरीज का उपचार कर रहे चिकित्सक और नर्सिंग स्टॉफ भी आइसोलेशन वार्ड में अन्दर जाएंगे.

बता दें कि, राजस्थान (Rajasthan) में बुधवार को चार नए कोरोना वायरस (Coronavirus) के पॉजिटिव केस सामने आए हैं. इनमें से तीन केस भीलवाड़ा जिले के बताए गए हैं, जो कि मेडिकल स्टाफ से जुड़े हुए हैं. वहीं एक केस जोधपुर का है. 

इन चार नए मरीजों के सामने आने के बाद राजस्थान में कोरोना वायरस (Coronavirus) के कुल मरीजों की संख्या 36 हो गई है. इनमें से एक की मौत हो चुकी है, जो कि विदेशी नागरिक था. वो राजस्थान में कोरोना का सबसे पहला पॉजिटिव केस था.

वहीं, राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत कोरोना वायरस से निपटने के लिए अधिकारियों के साथ लगातार बैठक कर रहे हैं. मुख्यमंत्री के अपील पर राजस्थान सरकार के मंत्री और विधायक अपने-अपने स्तर पर सहायता कोष में आर्थिक मदद देने की घोषणा कर चुके हैं.