जोधपुर में कायलाना झील और सिद्धनाथ के बीच बनेगा रोपवे

अशोक गहलोत के मुख्यमंत्री के रूप में तीसरी बार कमान संभालने के बाद एक बार फिर जोधपुर के विकास को पंख के लगने की उम्मीद जगी है. जल्द ही जोधपुरवासियों को सिद्धनाथ से कायलाना तक रोप वे की सेवा मिलेगी.

जोधपुर में कायलाना झील और सिद्धनाथ के बीच बनेगा रोपवे
जोधपुर शहर

जोधपुर: अशोक गहलोत(CM Ashok Gehlot) के मुख्यमंत्री के रूप में तीसरी बार कमान संभालने के बाद एक बार फिर जोधपुर के विकास को पंख के लगने की उम्मीद जगी है. जल्द ही जोधपुरवासियों को सिद्धनाथ से कायलाना तक रोप वे की सेवा मिलेगी. जिला प्रशासन ने पीपीपी मोड पर यह कार्य शुरू करने का निर्णय लिया है और इसके लिए निविदाएं जारी की जा चुकी हैं.

राजस्थान में आने वाला हर पर्यटक जोधपुर की ऐतिहासिक धरोहरों को देखने के लिए जोधपुर आता है और यहां के खानपान और मेहमान नवाजी का कायल हो जाता है. जोधपुर का ऐतिहासिक मेहरानगढ़ फोर्ट हो या उम्मेद भवन, पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित कर ही लेता है. अब पर्यटकों को लुभाने के लिए राज्य सरकार भी कायलाना झील और सिद्धनाथ के बीच में रोपवे शुरू करने जा रही है, जिसको लेकर निविदाएं भी निकाल दी गई हैं. रोपवे को लेकर जहां प्रशासन को उम्मीद है कि अगले साल से जब इसका कार्य शुरू हो जाएगा तो एक नया टूरिस्ट पॉइंट जोधपुर में विकसित हो जाएगा. जोधपुर जिला कलेक्टर प्रकाश राजपुरोहित ने बताया कि रोपवे को लेकर निविदाएं जारी कर दी गई है और जल्द ही इसका कार्य शुरू हो जाएगा जिसका पर्यटकों को लाभ मिलेगा।

वहीं सिद्धनाथ आश्रम में जाने वाले श्रद्धालुओं का कहना है कि सरकार कायलाना और सिद्धनाथ पर जो रोपवे बनाने जा रही है उससे क्षेत्र का विकास तो होगा ही वहीं जोधपुर के लोगों को रोजगार भी मिलेगा इन श्रद्धालुओं का कहना है कि जालौर के सुंधा माता मंदिर हो या फिर हरिद्वार के मनसा देवी माता में जाने के लिए रोपवे का इस्तेमाल किया जाता है, लेकिन अब जोधपुर में भी रोपवे बनना बड़ी बात है और लोग इसका लुत्फ उठाएंगे. वहीं कायलाना में वोटिंग के साथ-साथ माचिया सफारी पार्क भी आया हुआ है जिसे देखने के लिए पर्यटक यहां आते हैं, लेकिन अब रोपवे बनने के बाद इस इलाके का और ज्यादा विकास हो जाएगा और पर्यटक यहां आने लगेंगे. इसके अलावा सिद्धनाथ जाने वाले श्रद्धालुओं का कहना है कि इस आश्रम में जाने वाले श्रद्धालुओं के लिए कुछ रियायत सरकार द्वारा करनी चाहिए जिससे श्रद्धालुओं पर आर्थिक बोझ नहीं बढ़े।

सिद्धनाथ और कायलाना के बीच में रोपवे बनना वाकई टूरिस्टो के लिए एक नया प्वाइंट बन जाएगा और इससे जोधपुर में पर्यटन उद्योग को भी काफी संबल मिलेगा. राज्य सरकार की यह योजना जोधपुर के लिए मील का पत्थर साबित होगी.