राजस्थान: प्रवासी श्रमिकों की मदद के लिए आगे आया RSS, कर रहा कुछ ऐसा...

दौसा के महुवा कस्बे के पास राजमार्ग पर संघ के स्वयंसेवकों द्वारा, पिछले कई सप्ताह से भोजन व पेयजल पैकेट का वितरण प्रवासी श्रमिकों को किया जा रहा है. 

राजस्थान: प्रवासी श्रमिकों की मदद के लिए आगे आया RSS, कर रहा कुछ ऐसा...
प्रवासी श्रमिकों की मदद के लिए RSS के स्वयंसेवक भी आगे आए हैं.

जयपुर: कोरोना वायरस (Coronavirus) संक्रमण महामारी से उपजे संकट और लॉकडाउन (Lockdown) के बीच अपने घरों को लौट रहे प्रवासी श्रमिकों की मदद के लिए राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) के स्वयंसेवक भी आगे आए हैं और जगह-जगह उनकी सेवा कर रहे हैं.

एक बयान के अनुसार, अजमेर, जयपुर, कोटा, भीलवाड़ा समेत प्रदेश के विभिन्न हिस्सों से पैदल व साइकिल आदि से आगरा व ग्वालियर की ओर जा रहे, प्रवासी श्रमिकों के लिए जयपुर-आगरा राष्ट्रीय राजमार्ग (Jaipur-Agra National Highway) पर संघ के स्वयंसेवकों द्वारा भोजन आदि की व्यवस्था की जा रही है.

दौसा के महुवा कस्बे के पास राजमार्ग पर संघ के स्वयंसेवकों द्वारा, पिछले कई सप्ताह से भोजन व पेयजल पैकेट का वितरण प्रवासी श्रमिकों को किया जा रहा है. इसी प्रकार सिकराय उपखण्ड के मानपुर व सिकंदरा कस्बे में स्वयंसेवकों ने वंचित परिवारों को राशन सामग्री वितरित की.

गौरतलब है कि, प्रवासी श्रमिकों को लेकर राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) का बड़ा फैसला किया है. सीएम ने सभी जिला अधिकारियों को प्रवासी श्रमिकों के लिए व्यवस्थाएं करने के निर्देश दिए हैं. साथ ही, श्रमिकों के लिए विशेष शिविर खोलने, भोजन, पेयजल, शौचालय की व्यवस्था करवाने के भी निर्देश दिए हैं. इन व्यवस्थाओं के लिए उपखंड अधिकारी जिम्मेदार होंगे.

कोई भी श्रमिक पैदल चलता नहीं नजर आए
मुख्यमंत्री ने रोडवेज के प्रबंध निदेशक को निर्देश दिया है कि, जिला कलेक्टरों की मांग के अनुरूप बसें उपलब्ध करवाएं, ताकि श्रमिकों को आसानी से उनके निर्धारित स्थान तक पहुंचाया जा सके. सीएम ने कहा कि उपखंड अधिकारी यह सुनिश्चित करेंगे कि, कोई भी श्रमिक सड़क पर पैदल चलता हुआ नजर नहीं आए. इसकी मॉनिटरिंग पुलिस उप अधीक्षक के सहयोग से करवाएंगे.

(इनपुट-भाषा)