close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

सचिन पायलट ने बीजेपी पर कसा तंज, बताया किस वजह से रुका विकास कार्य

उन्होंने कहा कि चुनाव से ठीक पहले बीजेपी सरकार ने अपने राजनीतिक लाभ के लिए बजट नहीं होने के बावजूद विकास कार्य स्वीकृत किए.

सचिन पायलट ने बीजेपी पर कसा तंज, बताया किस वजह से रुका विकास कार्य
पायलट ने स्वीकृत कार्य को प्राथमिकता देने की बात कही. (फाइल फोटो)

जयपुर: उपमुख्यमंत्री और सार्वजनिक निर्माण मंत्री सचिन पायलट ने गुरुवार को विधानसभा में पूर्ववर्ती बीजेपी सरकार पर निशाना साधा. उन्होंने कहा कि चुनाव से ठीक पहले बीजेपी सरकार ने अपने राजनीतिक लाभ के लिए बजट नहीं होने के बावजूद विकास कार्य स्वीकृत किए. बजटीय प्रावधान नहीं होने से से ऐसे कार्यों के टैंडर और वर्कऑर्डर होने के बावजूद काम शुरू नहीं हुए. 

पायलट ने कहा कि कांग्रेस सरकार अब प्राथमिक आवश्यकता के कार्यों को वरीयता के आधार पर करवा रही है. इस दौरान विधायक प्रतापलाल भील ने गोगुंदा से बगदून्दा तक सड़क टू लेन करने से जुड़ा सवाल सदन में उठाया था. 

बीजेपी पर लगाया आरोप 
सचिन पायलट ने विधानसभा में कहा कि जो कार्य स्वीकृत हो चुके हैं, उनको प्राथमिकता दी जाएगी. इससे पूर्व विधायक प्रताप लाल भील के मूल प्रश्न का जवाब देते हुए उन्होंने बताया कि गोगुन्दा से बगदून्दा सड़क की लम्बाई 8 किलोमीटर है एवं वर्तमान में क्षतिग्रस्त  है. इस सडक को एसआरएफ एमडीआर  योजना में दिनांक 11 सितंबर 2018 को नवीनीकरण के लिए स्वीकृत कर कार्यादेश जारी कर दिए गए हैं. पायलट के सदन में जवाब देते समय सदन की कार्यवाही का भाजपा सदस्यों ने बहिष्कार किया हुआ था, ऐेसे में उन्होंने कहा कि इस समय विपक्ष के साथी सदन में नहीं हैं जिसके चलते टिप्पणी नहीं कर रहे हैँ. 

बजट पारित होते ही काम शुरू 
सार्वजनिक निर्माण मंत्री सचिन पायलट ने गुरुवार को विधानसभा में बताया कि गोगुन्दा से बगदून्दा सड़क पर यातायात के भार को दृष्टिगत रखते हुए इस सड़क को टू लेन करने पर विचार किया जाएगा. पायलट ने प्रश्नकाल के दौरान पूछे गए पूरक प्रश्नों का जवाब देते हुए बताया कि पूर्ववर्ती सरकार द्वारा बजट प्रावधान से ज्यादा राशि के कार्यादेश जारी किए गए. उन्होंने बताया कि गोगुन्दा विधानसभा क्षेत्र में 1312 किलोमीटर में से 380 किलोमीटर की सड़क रिपेयरिंग के लिए चिह्वित की जा चुकी है. इसके लिए 128 करोड़ रुपए का बजट है, इसमें से 62 करोड़ रुपए खर्च किए जा चुके हैं और 157 कार्यों में से 109 कार्य पूर्ण हो चुके हैं. जैसे ही बजट पारित होगा, वैसे ही प्राथमिकता के आधार पर यह कार्य करवा दिए जाएंगे.