close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

सचिन पायलट आरक्षण पर अपना रुख स्पष्ट करें: किरोड़ी लाल मीणा

वरिष्ठ भाजपा नेता मीणा ने कहा कि कांग्रेस के लिये तो पायलट पहले ही मुख्यमंत्री हैं तो ऐसे में गुर्जर समाज अपेक्षाएं भी बढ़ी है.

सचिन पायलट आरक्षण पर अपना रुख स्पष्ट करें: किरोड़ी लाल मीणा
गुर्जर समाज पांच प्रतिशत आरक्षण की मांग कर रहा है.

जयपुर: राज्यसभा सदस्य किरोड़ी लाल मीणा ने प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सचिन पायलट से गुर्जर और मीणा समुदाय को आरक्षण के मुद्दे पर अपना रुख स्पष्ट करने को कहा है . वरिष्ठ भाजपा नेता मीणा ने कहा कि कांग्रेस के लिये तो पायलट पहले ही मुख्यमंत्री हैं तो ऐसे में गुर्जर समाज अपेक्षाएं भी बढ़ी है.

मीणा ने कहा, 'सचिन पायलट गुर्जरों को एसटी में आरक्षण के बारे में रुख स्पष्ट करें. साथ ही बताएं कि मीणा समुदाय को एसटी में मिले आरक्षण पर उनका क्या रुख होगा ?' उन्होंने कहा कि सचिन पायलट के पिता और तत्कालीन केन्द्रीय मंत्री राजेश पायलट ने हिमाचल प्रदेश में गुर्जरों को एसटी में आरक्षण दिलवाया था.

उल्लेखनीय है कि राजस्थान में मीणा को एसटी श्रेणी के फायदे मिलते हैं जबकि गुर्जर इस श्रेणी में नहीं आते. बता दें कि गुर्जर समुदाय ने आरक्षण को लेकर कांग्रेस की संकल्प यात्रा रैली का विरोध करने का फैसला भी लिया था. लेकिन कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष सचिन पायलट के संदेश के बाद गुर्जर समुदाय ने रैली का विरोध न करने का फैसला लिया था.

जिसके बाद कर्नल किरोडी बैंसला ने आयोजित प्रेस वार्ता में बताया था कि 'संकल्प रैली का विरोध करने का उनका कोई इरादा नहीं था. लेकिन आगामी दिनों में चुनाव आने वाले हैं, ऐसे में गुर्जरों को हक है कि वो कांग्रेस से पूछे की चुनावों बाद आरक्षण मसले पर अपनी क्या राय रखती है. इसी कारण से गुर्जर समाज कांग्रेस से सवाल जबाब करना चाहता था.'  

जिसके बाद कांग्रेस पार्टी ने कहा था कि पूर्व में कांग्रेस सरकार ने गुर्जरों को 5 प्रतिशत आरक्षण दिया था लेकिन मामला कोर्ट में अटक गया है. अब कांग्रेस में सत्ता में आई तो इस मामले का संवैधानिक तरीके हल निकाला जायेगा. वहीं बैंसला व गुर्जर नेताओं को कांग्रेस की ओर से आश्वस्त किया कि था यदि चुनावों के बाद प्रदेश में उनकी सरकार बनती है तो गुर्जरों के आरक्षण मामले का संवैधानिक तरीके से हल निकाला जायेगा. बता दें कि गुर्जर समाज पांच प्रतिशत आरक्षण की मांग कर रहा है.

(इनपुट-भाषा)