close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

Rajasthan Assembly Elections : जानिए BJP के इकलौते मुस्लिम प्रत्याशी का क्या रहा चुनाव परिणाम

 सीएम वसुंधरा राजे के करीबी व पीडब्ल्यूडी मंत्री युनुस खान बीजेपी के एक मात्र मुस्लिम प्रत्याशी रहे.

Rajasthan Assembly Elections : जानिए BJP के इकलौते मुस्लिम प्रत्याशी का क्या रहा चुनाव परिणाम
टोंक विधानसभा मुस्लिम बहुल सीट हैं.

नई दिल्ली: राजस्थान की सबसे चर्चित विधानसभा सीट टोंक का चुनाव परिणाम आ गया है. कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष सचिन पायलट ने टोंक विधानसभा सीट  पर 54179 मतों से जीत दर्ज की है. सचिन पायलट ने इस चर्चित सीट पर बीजेपी प्रत्याशी और वसुंधरा राजे सरकार में कदृावर मंत्री रहे युनुस खान को हराया है. सचिन पायलट का यह पहला विधानसभा चुनाव है. सचिन 2004 में दौसा और इसके बाद 2009 में अजमेर से सांसद चुने गए थे. 2014 में वह हार गए थे. वहीं दूसरी तरफ सीएम वसुंधरा राजे के करीबी व पीडब्ल्यूडी मंत्री युनुस खान बीजेपी के एक मात्र मुस्लिम प्रत्याशी रहे जिन्हें उनकी परंपरागत डीडवाना सीट से हटाकर टोंक में सचिन पायलट के सामने उतारा गया था. टोंक विधानसभा मुस्लिम बहुल सीट हैं जिसको देखेते हुए बीजेपी ने सचिन पायलट को टक्कर देने के लिए अंतिम मौके पर युनुस खान को उतारा था.

युनुस खान डीडवाना सीट से दो बार विधायक रह चुके हैं
वसुंधरा राजे सरकार में कद्दावर मंत्री रहे युनुस खान डीडवाना विधानसभा से विधायक थे. खान को बीजेपी ने 1998 में पहली बार डीडवाना से मैदान में उतारा था. हालांकि वह अपना पहला चुनाव हार गए थे. 2003 में बीजेपी ने उन पर फिर भरोसा जताया. खान पार्टी के भरोसे पर खरे उतरे और कांग्रेस के रूपा राम डूडी को हराकर पहली बार विधानसभा पहुंचे. हालांकि 2008 में वह रूपा राम डूडी से चुनाव हार गए लेकिन 2013 में फिर से इस सीट पर कमल खिला दिया था. 

टोंक विधानसभा 
टोंक विधानसभा में बीते 46 साल की परंपरा को तोड़कर कांग्रेस ने राजस्थान कांग्रेस अध्यक्ष सचिन पायलट को इस सीट से मैदान में उतारा था. इससे पहले कांग्रेस सिर्फ मुस्लिम समुदाय का प्रत्याशी ही उतारती थी. टोंक विधानसभा में करीब 2 लाख 22 हजार मतदाता है. करीब 50 हजार मुस्लिम वोटर हैं. करीब 30 हजार गुज्जर समुदाय के मतदाता हैं. सचिन खुद गुज्जर समुदाय से आते हैं. 35 हजार एससी और 15 हजार सैनी समुदाय के वोट भी हैं.