बेटियों की सुरक्षा सरकार की प्राथमिकता होनी चाहिए: सतीश पूनिया

मासूम बच्ची के साथ दुष्कर्म और उसके बाद हत्या के मामले पर बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया ने एक बार फिर राजस्थान सरकार पर हमला बोला.

बेटियों की सुरक्षा सरकार की प्राथमिकता होनी चाहिए: सतीश पूनिया
बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि राजस्थान में पुलिस का इकबाल खत्म हो गया है.

जयपुर: टोंक में 6 साल की मासूम बच्ची के साथ दुष्कर्म और उसके बाद हत्या के मामले पर बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया ने चिंता जताई है. पुनिया ने इस वारदात के बाद एक बार फिर सरकार को आड़े हाथ लिया. उन्होंने कहा कि राजस्थान को शर्मसार वाली करने वाली घटनाओं की कड़ी में एक और वारदात जुड़ गई है. 

इस मामले पर पुनिया ने कहा कि बेटियों की सुरक्षा सरकार की प्राथमिकता होनी चाहिए. राजस्थान देशभर में ऐसा पहला प्रदेश है जहां बच्चों से दुष्कर्म करने वालों को फांसी की सजा का प्रावधान किया गया. पिछले 11 महीनों में इस तरह की वारदातें बढ़ने का आरोप लगाते हुए उन्होंने कहा कि सरकार की भी इस पर जवाबदेही बनती है. 

साथ ही, बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि राजस्थान में पुलिस का इकबाल खत्म हो गया है. ऐसा लगता है कि आमजन की बजाय अपराधियों में पुलिस को लेकर ज्यादा भरोसा बना है. लगातार हो रही इन घटनाओं को रोकने के लिए पुलिस को मुस्तैद रहना चाहिए. साथ ही ऐसे मामलों में जल्द सुनवाई करके सजा भी तय की जानी चाहिए.

गौरतलब है कि, राजस्थान के टोंक जिले के अलीगढ़ थाना क्षेत्र के खेड़ली गांव में भी शनिवार को एक 6 साल की मासूम बच्ची का अपहरण कर दुष्कर्म के बाद उसकी ही स्कूली ड्रेस की बेल्ट से गला घोंटकर हत्या कर दी गई थी. सूचना मिलने के बाद पुलिस अधीक्षक आदर्श सिद्धू, एएसपी विपिन कुमार शर्मा, सहित उनियारा सर्किल के सभी पुलिस थानों का जाब्ता मौके पर पहुंचा. 

पुलिस को घटनास्थल से टॉफी, जर्दा, गुटखे के पाउच, शराब की बोतलें और नमकीन भी बरामद हुए. एफएसएल और डॉग स्क्वायड सहित तमाम तकनीकी संसाधनों से मामले की जांच कर सबूत जुटाए जा रहे हैं. शुरुआती जांच में एक ट्रक ड्राइवर को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है.

जानकारी के अनुसार, टोंक जिले के अलीगढ़ थाना क्षेत्र के खेड़ली गांव में ननिहाल में रह रही 6 साल 4 महीने की कक्षा 1 में गांव की प्राथमिक विद्यालय में पढ़ने वाली बच्ची रोजाना की तरह बीते दिन भी स्कूल में पढ़ने गई थी. महीने का आखिरी दिन था तो शिक्षकों ने खेल घंटी में ही स्कूल की छुट्टी कर दी. छुट्टी होते ही बच्ची रोजाना की तरह घर नहीं पहुंची तो परिजनों को चिंता हुई. इसके बाद बच्ची के मामा के बेटे ने खोज शुरू की. 

रात भर उसकी ग्रामीणों ने खूब तलाश की. और पुलिस को भी सूचना दी गई. रविवार सुबह जब ग्रामीण खेतों मे शौच के लिए पहुंचे. तो बच्ची का शव स्कूल के पीछे ही झाड़ियों के गहरे गड्ढे में लहूलुहान हालत में बरामद हुआ. सूचना मिलते ही ग्रामीणों का हुजूम उमड़ पड़ा.