संकल्प रैली: बीजेपी को राजनीतिक अखाड़े में पटकनी देने में नहीं छोड़ेंगे कोई कसर- कांग्रेस

वसुंधरा राजे पर महलों में रहकर फरमान जारी करने के भी आरोप लगाए उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे समझती हैं कि वोट हमारी जेब में है उन्हें करौली आकर देखना चाहिए कि जनता क्या चाहती है.

संकल्प रैली: बीजेपी को राजनीतिक अखाड़े में पटकनी देने में नहीं छोड़ेंगे कोई कसर- कांग्रेस
फाइल फोटो

करौली: आगामी विधानसभा चुनावों में बीजेपी हटाओ कांग्रेस लाओ अभियान को लेकर कांग्रेस पार्टी द्वारा मंगलवार को करौली में संकल्प रैली का आयोजन किया गया. रैली में उमड़ी हजारों लोगों की भीड़ देखकर पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत एवं कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष सचिन पायलट के चेहरे खिल गए. भरतपुर संभाग की रैली में हजारों की संख्या में वाहन भीड़ लेकर करौली पहुंचे. जिससे करौली से हिंडोन तक की सड़क पूरी तरह से जाम हो गई. 

त्रिलोक चंद माथुर स्टेडियम में आयोजित रैली में भारी भीड़ के कारण लोगों को पैर रखने तक की जगह नहीं मिली. स्टेडियम के बाहर भी हजारों लोगों की भीड़ का जमावड़ा बना रहा. वहीं सड़क पर हजारों वाहनों के कारण जाम की स्थिति रही जिससे अन्य वाहनों का आवागमन बंद हो गया. सभा स्थल पर भीड़ के कारण व्यवस्था बिगड़ गई तथा गहलोत व पायलट सहित कई वरिष्ठ नेताओं को सीढ़ियों के सहारे मुश्किल से मंच तक पहुंचना पड़ा.

सभा को संबोधित करते हुए पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने बीजेपी सरकार पर जमकर निशाना साधते हुए कहा की  बीजेपी ने झूठ बोलकर चुनाव जीता. कांग्रेस ने हार को विनम्रता से स्वीकार किया लेकिन मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने बहुमत का सम्मान नहीं किया और कोई काम नहीं किया. उन्होंने कहा कि मैं मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे से पूछना चाहता हूं कि जनता का क्या कसूर है जिसने आप को बहुमत से जिताया. गहलोत ने कार्यकर्ताओं से कहा कि वह कांग्रेस को जिताने का संकल्प लेकर जाएं. टिकट एक को ही मिलता है, कांग्रेस का टिकट मिलने के बाद उस उम्मीदवार को जिताने में जुट जाएं. उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के राज से जनता दुखी है. 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जनता से जो वादे किए उनमें से एक भी पूरा नहीं हुआ. न ही विदेशों से काला धन आया न लोगों को 15 लाख रुपए दिए, और न ही आम जनता के अच्छे दिन आए. बल्कि जनता महंगाई और भ्रष्टाचार से त्रस्त है. उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी 36 कोम की पार्टी है तथा सभी वर्गों को साथ लेकर चलती है. 

वहीं सभा को संबोधित करते हुए कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष सचिन पायलट ने कहा कि करौली में अब तक कई राजनीतिक दलों की सभाएं हुई हैं लेकिन आज कांग्रेस की सभा में जनता ने जो प्यार उत्साह जुनून दिखाया है वह आज तक कभी नहीं हुआ. कांग्रेस की संकल्प रैली अब तक की सबसे बड़ी और ऐतिहासिक सभा बन गई है. पायलट ने कहा कि बीजेपी राज में लोगों को लड़ाने का काम किया है. बीजेपी के राज में माफिया पनपा है, दलित आदिवासी और किसानों के साथ अत्याचार हुए हैं. उन्होंने कार्यकर्ताओं से कहा कि चुनाव का समय चुनौती का समय है.

पूर्वी राजस्थान की सभी सीटें कांग्रेस को दीजिए. कांग्रेस पूर्वी राजस्थान का विकास करवाएगी जो मांगे हैं उन्हें पूरा किया जाएगा. उन्होंने कहा कि राजस्थान में कांग्रेस को इतना बहुमत दीजिए कि दिल्ली की सरकार भी हिल जाए. सचिन पायलट ने CM पर पलटवार करते हुए कहा वो मेरे बारे में बोलती हैं कि सचिन नौसिखिया है, वसुंधरा जी मेरे से बड़ी हैं, मैं उनका सम्मान करता हूं, लेकिन राजनीति के अखाड़े में पटकनी देने में कोई कसर नहीं छोडूंगा. लोकतंत्र में राजा राजघरानों से नहीं किसानों की कोख से पैदा होते हैं. मैं किसान परिवार से आता हूं वो राजघराने से आती हैं. उन्होंने वसुंधरा राजे पर महलों में रहकर फरमान जारी करने के भी आरोप लगाए उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे समझती हैं कि वोट हमारी जेब में है उन्हें करौली आकर देखना चाहिए कि जनता क्या चाहती है. 

रैली में कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव मोहन प्रकाश ने अशोक गहलोत को राहुल गांधी के बाद दूसरे नम्बर का नेता बताया. संकल्प रैली में कांग्रेस के राष्ट्रीय एवं प्रदेश स्तर के कई नेता मौजूद रहे. वहीं दूसरी ओर विभिन्न स्थानों से करौली पहुंच रहे हजारों वाहनों के काफिले को हिंडौन सिटी में सवर्ण ओबीसी वर्ग के लोगों ने एससी एसटी एक्ट मामले पर काले झंडे दिखाकर विरोध जताया.