संयम लोढ़ा ने रखा विश्वास मत, बोले- वसुंधरा राजे दो बार मुख्यमंत्री रहीं तो हुआ क्या?

कांग्रेस खेमे के विधायक संयम लोढ़ा ने केंद्र सरकार पर ईडी के दुरुपयोग के आरोप लगाए. 

संयम लोढ़ा ने रखा विश्वास मत, बोले- वसुंधरा राजे दो बार मुख्यमंत्री रहीं तो हुआ क्या?
कांग्रेस खेमे के विधायक संयम लोढ़ा ने केंद्र सरकार पर ईडी के दुरुपयोग के आरोप लगाए.

जयपुर: राजस्थान विधानसभा के पांचवें सत्र का आज पहला दिन है. सत्ताधारी सरकार और विपक्ष दोनों तरफ के नेता विधानसभा में मौजूद हैं. विधानसभा में विश्वास प्रस्ताव पर बहस हो रही है.

संयम लोढ़ा ने शेर के साथ अपने संबोधन की शुरुआत की. उन्होंने कहा कि हम आह भी करते हैं तो हो जाते हैं बदनाम, वो कत्ल भी करते हैं तो चर्चा नहीं होती. 

यह भी पढ़ें- गहलोत सरकार के मंत्री धारीवाल ने रखा विश्वास मत, महाराणा प्रताप से की CM की तुलना

संयम लोढ़ा ने कहा कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने 102 विधायकों के जरिए लोकतंत्र को बचाने की लड़ाई लड़ी. बाद में सुधार कर कहा कि हमारे साथ 123 विधायक हैं. संयम लोढ़ा ने भाजपा पर निशाना साधते हुए कहा कि सूटकेस के दम पर मेजोरिटी को माइनॉरिटी में बदलने की कोशिश की गई. जब पूरे देश में कोरोना का संकट बढ़ रहा था तब दिल्ली की हुकूमत ने मध्य प्रदेश में सरकार गिराने की साजिश रची. वसुंधरा राजे दो बार मुख्यमंत्री रहीं तो क्या राजस्थान के सारे काम हो गए? मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने इन विषम परिस्थितियों में राजस्थान की आवाम की हिफाजत उनकी देखभाल करने का काम किया है. 

कांग्रेस खेमे के विधायक संयम लोढ़ा ने केंद्र सरकार पर ईडी के दुरुपयोग के आरोप लगाए. उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के 5 पर 11 साल पुराने मामले में ईडी का नोटिस भिजवाया. भैरो सिंह शेखावत के परिजनों को नोटिस भिजवाए गए हैं. भाजपा के नेताओं को शर्म नहीं आई.