Rajasthan Budget से पहले 'पंचायत बजट' पर मचा संग्राम, सरपंचों ने किया बड़ा ऐलान

राज्य सरकार (State Government) कल सदन में अपना बजट पेश करेगी लेकिन पिछले दो साल से राजस्थान (Rajasthan) की सभी पंचायतों का बजट गड़बड़ा गया है. 

Rajasthan Budget से पहले 'पंचायत बजट' पर मचा संग्राम, सरपंचों ने किया बड़ा ऐलान
प्रतीकात्मक तस्वीर.

aipur: राजस्थान बजट (Rajasthan Budget) से पहले पंचायत बजट (Panchayat Budget) पर संग्राम मचा हुआ है. दो साल से पंचायतों का बजट जारी नहीं होने से गांव का विकास पूरी तरह से ठप हो गया है, इसलिए सरपंचों ने सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है. कल सदन एक तरफ बजट पेश हो रहा होगा, वहीं दूसरी ओर अपनी पंचायतों के बजट के लिए सरपंच आंदोलन करेंगे.

यह भी पढ़ें- Rajasthan Budget 2021: शिक्षा के क्षेत्र में उम्मीदों से बढ़कर पेश हो सकता है बजट!

2950 करोड़ का बजट जारी नहीं हुआ
राज्य सरकार (State Government) कल सदन में अपना बजट पेश करेगी लेकिन पिछले दो साल से राजस्थान (Rajasthan) की सभी पंचायतों का बजट गड़बड़ा गया है. सरपंच अपनी अपनी पंचायतों में विकास कार्य नहीं करवा रहे हैं. ऐसे में एक तरफ कल सदन में बजट पढ़ा जा रहा होगा, वहीं दूसरी और राजस्थान की सभी 11 हजार से ज्यादा ग्राम पंचायतों में बजट जारी करने पर आंदोलन होगा क्योकि दो साल से राजस्थान की पंचायतों का बजट डगमगाया हुआ है. दो साल से पंचायतों का 2950 करोड़ जारी नहीं करने से विकास कार्य ठप पड़े हैं.

यह भी पढ़ें- Rajasthan की पंचायतों में फिर से संग्राम, सरपंचों ने छेड़ा सरकार के खिलाफ आंदोलन

5 हजार करोड़ के विशेष पैकेज की मांग
पंचायतों का बजट जारी नहीं होने से नाराज गांव के मुखिया अपनी अपनी पंचायतों में विरोध प्रदर्शन करेंगे. सरपंच संघ के अध्यक्ष बंशीधर गढ़वाल (Banshidhar Garhwal) का कहना है कि बजट जारी नहीं होने से गांवों में बिजली, पानी, सड़कें इन तमाम सुविधाओं पर असर पड़ने लगा है. नए काम तो छोड़िए पुराने कार्य अटके पड़े हैं. इसके साथ साथ पंचायतों के लिए 5 हजार करोड़ का विशेष बजट भी जारी किया जाए ताकि राजस्थान के ग्राम पंचायतों का विकास हो सके.

बजट में हो सकते हैं खुश करने के प्रयास
प्रदेश बजट को कल विधानसभा में पेश किया जाएगा, ऐसे में सरपंचों को खुश करने के लिए सदन से कई घोषणाएं हो सकती हैं. पंचायतों का बजट जरूर गड़बड़ा गया है लेकिन प्रदेश बजट से इस बार संभवतया कई सौगातें पंचायतों को मिल सकती हैं.