BJP कोर ग्रुप की बैठक से क्यों दूर रही Vasundhara Raje, Poonia ने दिया यह जवाब...

सतीश पूनिया ने कहा कि किसी की गैरहाजिरी का हर बार सियासी कारण नहीं होता. बैठक में नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया और राष्ट्रीय महामंत्री भूपेंद्र यादव भी नहीं आए. 

BJP कोर ग्रुप की बैठक से क्यों दूर रही Vasundhara Raje, Poonia ने दिया यह जवाब...
राजस्थान बीजेपी ऑफिस में पार्टी की अहम बैठक हुई.

जयपुर: बीजेपी कोर कमेटी की पहली बैठक में ही पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे नहीं पहुंची. इस बैठक में वसुंधरा राजे भले नहीं आई, लेकिन बैठक से गैरहाजिर रहकर भी पार्टी कार्यालय और कार्यकर्ताओं के बीच चर्चा का केंद्र वसुंधरा राजे (Vasundhara Raje) ही रही. प्रभारी अरुण सिंह (Arun Singh) ने उनकी पुत्रवधु के बीमार होने को राजे के नहीं आने का कारण बताया तो प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया ने कहा कि किसी की गैरहाजिरी का हर बार सियासी कारण नहीं होता.

बैठक में नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया और राष्ट्रीय महामंत्री भूपेंद्र यादव भी नहीं आए. हालांकि, पूनिया ने कहा कि दोनों ही चुनाव को लेकर व्यस्त हैं. ये सभी अगली बैठक में उपस्थित रहेंगे. हालांकि, पूनिया ने फरवरी के आखिरी सप्ताह में होने वाली कोर कमेटी की अगली बैठक में सभी नेताओं के मौजूद रहने कि उम्मीद भी जताई है.

सोशल मीडिया पर मुख्यमंत्री के सवाल पर पूनियां ने कहा कि सोशल मीडिया (Social Media) के प्लेटफार्म सच्चाई के ज्यादा करीब नहीं होते. पूनिया ने कहा कि बीजेपी में संसदीय बोर्ड सर्वशक्तिमान है. सोशल मीडिया और सड़क पर लगने वाले नारों को हकीकत में बदलने का काम संसदीय बोर्ड करता है. राजे की अनुपस्थिति पर फिर पूनिया ने कहा कि उपस्थिति और अनुपस्थिति के कारण हो सकते हैं, किन्हीं सियासी चीजों से जोड़ने की कोई आवश्यकता नहीं है. बैठक में राजे के अनुपस्थित होने की चर्चा पर भी पूनिया ने कहा कि इस पर ज़्यादा चर्चा की आवश्यकता नहीं है क्योंकि उनके यह लिए कोई बड़ा मसला नहीं है.

गुटबाजी की बात की खारिज
पार्टी में गुटबाजी के सवाल पर पूनिया ने कहा कि उन्हें लगता है कि जिस तरीके से गुटबाजी की चर्चा होती है, उसी तरीके से वे उसे खारिज करते हैं क्योंकि इसका कोई आधार नहीं है. पूनिया ने कहा कि भीतर क्या बात हुई, आप उसका क्या आकलन करते हो यह अलग बात है. पूनिया ने कहा कि भविष्य में उपलब्धता होगी तो सभी नेता उपस्थित होंगे.

सरकार का इकबाल खत्म हुआ
जनप्रतिनिधियों पर हो रहे हमले को लेकर सतीश पूनिया (Satish Poonia) ने कहा कि वे पहले से कहते रहे हैं कि इस सरकार का इकबाल खत्म हो गया है. जनप्रतिनिधि सुरक्षित नहीं रहे, यह कांग्रेस सरकार के कामकाज की बानगी है. दोनों ही जगह कार्यकर्ता धरने पर बठे हैं. पूनिया ने कहा कि उनकी डीजीपी से बात हुई और उन्होंने आश्वस्त किया है कि जल्द ही हमलावरों को गिरफ्तार करेंगे. पूनिया ने कहा कि एक-दो दिनों में पार्टी के प्रमुख लोग वहां जाकर छानबीन करेंगे और अगर जरूरत पड़ी तो राज्यपाल से मुलाकात भी करेंगे.

चुनाव में BJP की खिलाफत करने वालों पर होगी कार्रवाई
चुनाव में पार्टी की खिलाफत करने वालों पर कार्रवाई के सवाल पर पूनिया ने कहा कि हार्ड कैसेज में कार्रवाई की है. कुछ जगहों पर कार्रवाई प्रस्तावित है. स्थानीय इकाई ने कहा है कि मतदान के बाद उसका फैसला करेंगे. अनुशासन समिति ने निर्णयों की चर्चा भी की है. उन्होनें कहा कि एक-दो दिन में कुछ मामलों पर कार्रवाई हो जाएगी.

प्रत्याशी नहीं उतारना रणनीति का हिस्सा
निकाय चुनाव में कुछ जगहों पर प्रत्याशी नहीं उतारने के सवाल पर पूनिया ने कहा कि यह पहली बार नहीं हुआ है. सत्ताधारी दल के भी बहुत सारे वार्ड खाली रहते हैं. कुछ रणनीति के तहत और कुछ सामान्य परिस्थितियों के कारण होते हैं. किन के समर्थन की जरूरत होगी, यह तो मतगणना के बाद ही तय होगा. मैं आश्वस्त हूं कि 90 निकायों में सरकार के खिलाफ आक्रोश है और बीजेपी को बढ़त मिलेगी.

चिंतन शिविर लगाएगी BJP, सांसदों की बैठक होगी
पूनिया ने कहा कि बैठक में उप चुनाव, विधानसभा सत्र सहित कई मुददों पर चर्चा होगी. आने वाले समय में चिंतन शिविर लगेगा और सांसदों की बैठक भी होगी. सांसदों की बैठक के जरिए ही राजस्थान (Rajasthan) के कौन से मुददे संसद में उठाए जाने हैं, उन पर चर्चा होगी. पार्टी की मजबूती, कार्ययोजना पर चर्चा होती है.