जयपुर: 17वें दिन भी जारी है स्कूल व्याख्याता भर्ती अभ्यर्थियों का आंदोलन, नहीं मानी गई मांगें

बेरोजगारों ने साफ कर दिया है कि जब तक उनकी सभी मांगें पूरी नहीं होंगी, तब तक आंदोलन जारी रहेगा.

जयपुर: 17वें दिन भी जारी है स्कूल व्याख्याता भर्ती अभ्यर्थियों का आंदोलन, नहीं मानी गई मांगें
करीब 11.30 बजे तक चली वार्ता अंत में विफल रही.

जयपुर: 3 जनवरी से 13 जनवरी तक आयोजित होने वाली स्कूल व्याख्याता भर्ती परीक्षा तिथि आगे बढ़वाने की मांग सहित 5 सूत्री मांगों को लेकर चल रहा आंदोलन आज 17वें दिन भी जारी रहा. 

सोमवार को राजस्थान यूनिवर्सिटी से सिविल लाइंस फाटक तक विशाल रैली निकाली गई, जिसके बाद दोपहर 3 बजे से ही सिविल लाइंस फाटक पर धरना दिया गया. सिविल लाइंस फाटक पर हजारों की संख्या में बेरोजगार डेरा डाल रहे तो वहीं सांसद किरोड़ी लाल मीणा और भाजपा नेता सुमन शर्मा ने इस आंदोलन का नेतृत्व किया. 

रात को धरना स्थल पर ही खाने की व्यवस्था की गई. इसके बाद रात करीब 9.30 बजे सरकार ने एक प्रतिनिधि मंडल को वार्ता के लिए बुलाया. पहले प्रतिनिधिमंडल की मंत्री लालचंद कटारिया से बात हुई और उसके बाद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से बात की गई. इसके बाद सरकार ने तीन मंत्रियों के नेतृत्व में एक कमेटी बनाकर विचार करने का आश्वासन दिया लेकिन प्रतिनिधिमंडल इस आश्वासन से संतुष्ट नजर नहीं आया.

करीब 11.30 बजे तक चली वार्ता अंत में विफल रही और प्रतिनिधिमंडल ने धरना स्थल पर पहुंचकर धरना आगे जारी रखने का फैसला लिया लेकिन सिविल लाइंस फाटक पर धरने की अनुमति नहीं होने के चलते रात करीब 2 बजे शहीद स्मारक पर धरने की अनुमति दी गई, जिसके बाद शहीद स्मारक पर धरना दिया गया हालांकि बेरोजगारों ने साफ कर दिया है कि जब तक उनकी सभी मांगें पूरी नहीं होंगी, तब तक आंदोलन जारी रहेगा.