SDRF ने जोखिम के बदले मांगा विशेष भत्ता, राज्य सरकार के पास भेजा प्रस्ताव

 बाढ़, भूकम्प, आगजनी जैसी आपदाओं में लोगों को बचाने वाली एसडीआरएफ ने इस जोखिम के बदले विशेष भत्ता मांगा है. 

SDRF ने जोखिम के बदले मांगा विशेष भत्ता, राज्य सरकार के पास भेजा प्रस्ताव
फाइल फोटो

जयपुर: बाढ़, भूकम्प, आगजनी जैसी आपदाओं में लोगों को बचाने वाली एसडीआरएफ ने इस जोखिम के बदले विशेष भत्ता मांगा है. SDRF के अधिकारी-कर्मचारियों के लिए मूल वेतन का 25 प्रतिशत विशेष जोखिम भत्ते की मांग की गई है. पुलिस मुख्यालय से SDRF कर्मियों को जोखिम भत्ते का प्रस्ताव राज्य सरकार के पास भेजा गया है.

प्रदेश में प्राकृतिक आपदाओं, बाढ़, भूकम्प, अग्निकांड, जहरीली गैसों के रिसाव, बड़ी सड़क दुर्घटनाओं, रेल हादसों, हवाई दुर्घटनाओं, बड़ी बिल्डिंगों-पुलाें के ढहने और न्यूक्लियर रिसाव होने पर बचाव राहत कार्यों के लिए एसडीआरएफ का गठन किया. इसके बाद जुलाई 2013 में एसडीआरएफ जवानों की भर्ती की गई और उन्हें जोधपुर बीएसएफ से ट्रेनिंग दिलाई गई. करीब सात साल बाद अब एसडीआरएफ जवानों- अधिकारियों के लिए जोखिम भत्ता मांगा जा रहा है.  

- SDRF एडीजी ने 8 अक्टूबर 2020 को पुलिस मुख्यालय को पत्र लिखकर जोखिम भत्ता दिलाने की मांग की
- 23 नवम्बर को पुलिस मुख्यालय से प्रमुख सचिव गृह को प्रस्ताव भेजकर जोखिम भत्ता मांगा
- जोखिम भत्ता दिए जाने को युक्ति संगत बताते हुए कई उदाहरण दिए 
- SDRF जवान बाढ़, मलबे में दबे लोगों को निकालने, केमिकल, बॉयाेलोजिकल, रेडियोलोजिकल, न्यूक्लियर आपदाओं के दौरान जान जोखिम में डालकर ड्यूटी दे रहे हैं
- SDRF का विशेषीकृत कार्य है जो अनजान विषम परिस्थितियों में चुनौतिपूर्ण जोखिम भरा है
-  SDRF अब तक 520 से अधिक बचाव और राहत कार्य में 8085 से अधिक व्यक्तियों को जिंदा बचाया है
- आपदा के दौरान SDRF  के कांस्टेबल से लेकर सहायक कमांडेंट स्तर के अधिकारी-कर्मचारी मौके पर रहते हैं
- विशेष परिस्थितियों में डिप्टी कमांडेंट स्तर के अधिकारी भी मौके पर पहुंचते हैं
- ऐसे में कांस्टेबल से डिप्टी कमांडेंट स्तर तक जोखिम भत्ता दिया जाना चाहिए
- NDRF में भी उत्साहवर्धन और बेहतर परिणाम के लिए विशेष वेतन लागू है 
- एटीएस में कांस्टेबल से एएसपी तक मूल वेतन का 25  प्रतिशत जोखिम भत्ता दिया जा रहा है
- एसओजी में कांस्टेबल से इंस्पेक्टर तक 10 प्रतिशत तथा विशेष शाखा में 25 प्रतिशत भत्ता दिया जा  रहा है
- उत्तराखंड में SDRF को मूल वेतन का 30%,  छत्तीसगढ़ में भी एसडीआरएफ जवानों को 50% जोखिम भत्ता दिया जा रहा है
- SDRF  को विशेष भत्ता देने पर  छठे वेतन आयोग के अनुसार 3 करोड़ 
- 14 लाख 33 हजार तथा  सातवें वेतन आयोग के अनुसार 6 करोड़ 
- 69 लाख 34 हजार के वित्तीय भार आएगा
- SDRF के राजपत्रित-अराजपत्रित सहित 998 कर्मचारियों को विशेष भत्ता दिया जाना है.

ये भी पढ़ें: कृषि कानून-किसान आंदोलन को लेकर CM गहलोत ने PM मोदी को लिखा पत्र, की यह मांग...