राजस्थान यूनिवर्सिटी में नए कुलपति की तलाश शुरू, पार्टी आईडियोलॉजी शिक्षाविद हुए सक्रीय

प्रदेश के सबसे बड़े विश्व विद्यालय राजस्थान यूनिवर्सिटी में नये स्थाई कुलपति की कवायद अब तेज कर दी गई है.

राजस्थान यूनिवर्सिटी में नए कुलपति की तलाश शुरू, पार्टी आईडियोलॉजी शिक्षाविद हुए सक्रीय
फाइल फोटो

जयपुर: प्रदेश के सबसे बड़े विश्व विद्यालय राजस्थान यूनिवर्सिटी (Rajasthan University) में नये स्थाई कुलपति की कवायद अब तेज कर दी गई है. कुलपति सर्च कमेटी के गठन के बाद नये कुलपति के लिए योग्य शिक्षाविद की तलाश शुरू हो चुकी है और इसके लिए कमेटी विज्ञप्ति जारी कर आवेदन भी लेने शुरू कर दिए हैं. 

वाइस चांसलर पद के लिए शिक्षाविदों से आवेदन मांगे गए हैं, जिन्हें प्रोफेसर पद पर 10 साल का अनुभव हो. राविवि के वर्तमान कुलपति प्रोफेसर आरके कोठारी का कार्यकाल 11 जुलाई को पूरा होने जा रहा है. कुलपति आरके कोठारी अपना 3 साल का कार्यकाल पूरा होने के बाद 11 जुलाई को रिटायर होंगे. 

जानकार सूत्रों के अनुसार एसके दुबे की अध्यक्षता में गठित चार सदस्य कमेटी राविवि के आगामी कुलपति का नाम तय करेगी. इस कमेटी में राज्यपाल, राज्य सरकार, यूजीसी और सिंडिकेट के प्रतिनिधि शामिल है. कमेटी द्वारा जारी विज्ञप्ति के अनुसार राजस्थान यूनिवर्सिटी में अगले 3 साल के लिए नये स्थाई कुलपति का चयन होगा, जिसके लिए आयु सीमा 70 वर्ष तक निर्धारित की गई है. 

कुलपति पद के लिए आवेदन करने वाले शिक्षाविदों को विश्व विद्यालय और राजभवन की वेबसाइट पर निर्धारित प्रोफार्मा में 12 जून शाम 4:30 बजे तक अपने आवेदन भेजने होंगे. यह प्रक्रिया पूरी तरह से गोपनीय रखी जाएगी. राविवि में नये स्थाई कुलपति की तलाश के साथ ही कांग्रेस आईडियोलॉजी से जुड़े हुए शिक्षाविद सक्रिय हो गए हैं और आवेदन प्रक्रिया के साथ ही इनकी कोशिशें भी तेज हो गई है. 

आवेदन प्राप्त होने के बाद कुलपति सर्च कमेटी की बैठक में तय होने वाले नाम राज्यपाल और राज्य सरकार को भिजवाए जाएंगे.राज्यपाल और राज्य सरकार की मुहर के बाद ही नये कुलपति की राविवि में नियुक्ति होगी.

गौरतलब है कि कुलपति की योग्यता को लेकर काफी घमासान देखने को मिले हैं और सबसे ज्यादा राजनीतिक घमासान डॉक्टर देव स्वरूप और जेपी सिंगल के कुलपति रहने के दौरान उनकी  योग्यता को लेकर देखने को मिले थे, जिसके बाद स्पष्ट शब्दों में कुलपति पद की योग्यता को सामने रखा गया है.

ये भी पढ़ें: CM गहलोत पर सांसद का हमला, बोले- मजदूरों से ज्यादा, प्रियंका गांधी की खुशी की चिंता