close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

जयपुर: प्रदेश भर में सुरक्षा चाक-चौबंद, CM गहलोत ने की शांति बनाए रखने की अपील

शनिवार को अयोध्या मामले पर आने वाले फैसले के मद्देनजर सरकार ने प्रदेश के सभी स्कूल और कॉलेज में छुट्टी की घोषणा की है. 

जयपुर: प्रदेश भर में सुरक्षा चाक-चौबंद, CM गहलोत ने की शांति बनाए रखने की अपील
सीएम अशोक गहलोत. (फाइल फोटो)

जयपुर: देश के सबसे बड़े सूबे उत्तर प्रदेश के अयोध्या विवाद (Ayodhya Verdict) पर शनिवार को सुबह साढ़े 10 बजे सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) फैसला सुनाने वाला है. इसको लेकर यूपी ही नहीं, पूरे देश भर में सुरक्षा एजेंसियां सतर्क हो गई हैं. राजधानी जयपुर से लेकर पूरे राजस्थान में भारी पुलिस फोर्स तैनात किया गया है. शनिवार को राजस्थान में सभी स्कूल-कॉलेजों की छुट्टी की गई है.

अयोध्या विवाद पर आने वाले फैसले को लेकर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) ने भी शांति और मेलजोल बनाए रखने की अपील की है. उन्होंने कहा है कि प्रदेश की परंपरा शांति और सौहार्द रही है. फैसले के मद्देनजर सभी लोग इस बात का ध्यान रखेंगे. सरकार किसी भी तरह की स्थिति से निपटने के लिए पूरी तरह से सजग है.

वहीं आमेर के रिजॉर्ट में महाराष्ट्र (Maharashtra) के विधायकों से मुलाकात के बाद निकलते हुए प्रेस से बातचीत के दौरान मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) ने कहा कि सरकार ने सतर्कता बरतने के लिए इस तरह के कदम उठाए हैं. गहलोत ने कहा कि प्रदेश में आपसी सौहार्द और अमन-चैन की परंपरा रही है और अयोध्या मामले (Ayodhya Verdict) के राम मंदिर (Ram Mnadir) पर जो भी फैसला आएगा सभी उसे स्वीकार करेंगे. उन्होंने सरकार की तैयारी पर जानकारी देते हुए कहा कि वे खुद इस मामले में जिला कलेक्टर और पुलिस अधिकारियों से वीडियो कांफ्रेंस पर बातचीत कर चुके हैं. पूरे प्रदेश में पुलिस प्रशासन अलर्ट मोड पर है और किसी तरह की कोई अप्रिय घटना नहीं होने दी जाएगी.

बता दें कि शनिवार को अयोध्या मामले पर आने वाले फैसले के मद्देनजर सरकार ने प्रदेश के सभी स्कूल और कॉलेज में छुट्टी की घोषणा की है. अयोध्या विवाद (Ayodhya Verdict) पर फैसला आने से पहले जयपुर में सभी अधिकारी अलर्ट (Alert) पर हैं. वहीं सोशल मीडिया पर भी पुलिस ने पैनी नजर रखी है. लोगों से सुप्रीम कोर्ट के फैसले का इंतजार करते हुए शांति और सौहार्द बनाए रखने की अपील की गई है. भीलवाड़ा और कोटा में सुरक्षा व्यवस्था के मद्देनजर धारा 144 लागू कर दी गई है. कोई भी अप्रिय घटना न घटे, इसको लेकर सुरक्षा के खासा इंतजाम किए गए हैं.