खेलते-खेलते मिट्टी की कलाकृतियों का जादूगर बन गए पुष्कर के अजय रावत, देखें हुनर

अजय रावत ने बताया कि कभी बचपन में सुनते-देखते थे कि समुंदर किनारे रेत पर लोग चित्र बनाया करते हैं. 

खेलते-खेलते मिट्टी की कलाकृतियों का जादूगर बन गए पुष्कर के अजय रावत, देखें हुनर
अलवर में चल रहे मत्स्य उत्सव के तहत इंदिरा गांधी स्टेडियम में विभिन्न खेलों का आयोजन किया गया.

जुगल, अलवर: राजस्थान की मिट्टी में खेलते-खेलते मिट्टी पर ही कलाकृतियां बनाने के शौक से पुष्कर के अजय रावत को एक अलग पहचान मिली है. आज मिट्टी पर बनाई उनकी कलाकृतियों को देख कर लोग दांतों तले उंगलियां दबा लेते हैं.

अलवर में चल रहे मत्स्य उत्सव के तहत इंदिरा गांधी स्टेडियम में विभिन्न खेलों का आयोजन किया गया. इस दौरान यहां पहुंचे पुष्कर के अजय रावत और उनके सहयोगियों ने एक आकर्षक राजस्थानी महिला का चेहरा मिट्टी के ढेर पर बनाया. अलवर के बाला किला के चित्र को भी बनाया गया, जिसे देख लोग हतप्रभ रह गए.

अजय रावत ने बताया कि कभी बचपन में सुनते-देखते थे कि समुंदर किनारे रेत पर लोग चित्र बनाया करते हैं. हमारे राजस्थान में मिट्टी काफी है. मैंने भी शौक-शौक यह सब सीख लिया.

मत्स्य उत्सव के तहत आज सुबह महल चौक से सिलीसेढ़ तक एक साइकिल रैली निकाली गई. साथ ही इंदिरा गांधी स्टेडियम में विभिन्न खेलों का आयोजन हुआ, जहां जिला परिषद सीओ विनय नगायच मुख्य अतिथि थे. उन्होंने विजेता प्रतिभागियों को शुभकामनाएं दीं. इस दौरान रस्साकशी, खोखो ओर दौड़ सहित विभिन्न स्पर्धाएं हुईं.