close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

कोटा में मुसलाधार बारिश से कई सड़कें क्षतिग्रस्त, यातायात बाधित

ग्रामीण इलाकों को जोड़ने वाली कई पुलिया पानी के कारण टूट गई. जिसके कारण कई मार्ग अभी अवरूद्ध है और लोगों को भारी परेशानी हो रही है. 

कोटा में मुसलाधार बारिश से कई सड़कें क्षतिग्रस्त, यातायात बाधित
बारिश की वजह से सड़कें पानी में बह गई.

राम मेहता/बारां: कोटा के बारां जिलें में बरसात का दौर तो थम गया लेकिन जिलें में हुई भारी बरसात और बाढ़ के कारण सडकें क्षतिग्रस्त हो गई. वहीं ग्रामीण इलाकों को जोड़ने वाली कई पुलिया पानी के कारण टूट गई. जिसके कारण कई मार्ग अभी अवरूद्ध है और लोगों को भारी परेशानी हो रही है. 

खबर के मुताबिक छबडा-छीपाबडौद क्षेत्र में हुई बारिश ने जबर्दस्त कहर बरपाया है. सड़कें पुलिया टूट गई है. यहां तक कि की मकान धराशायी हो गए. बारिश से छबडा कुंभराज रोड पर रेतली नदी की पुलिया की सड़क उखड़ गई और सड़क का डामर नदी मे बह गया. वहीं कस्बे व ग्रामीण इलाकों में एक दर्जन से अधिक मकान गिर गए. साथ ही कड़ियाहाट गांव मे तीन कच्चे मकान गिर गए और एक मकान की छत उड़ गई. 

वहीं अली नगर में मनरेगा के दो तालाबों की पाल टूटने से खेतों में पानी घुस गया जिससे फसलों को भारी नुकसान हुआ. हालांकि जिला कलेक्टर भी अधिकारियों के साथ प्रभावित क्षेत्र का दौरा किया और सड़क मार्ग के आवागमन को दुरूस्त करने के निर्देश दिए.

जबकि, जयपुर के दूदू सहित कई हिस्सों में बारिश का दौर पिछले तीन दिन से लगातार जारी है. जिससे लोगों का जनजीवन अस्त व्यस्त सा हो गया. बरिश से तालाब बांध और एनीकट ओवर फ्लो होकर टूट गए है. जिससे कई निचले इलाकों में पानी भर गया है. नाले को पार करते समेत एक बाइक पानी मे बह गई. हालांकि लोगों ने बाइक सवार युवक को बचा लिया.

बारिश की वजह से सड़कें पानी में बह गई, जिससे धांधोली पंचायत के कई गांवों का सम्पर्क टूट गया. उधर एसडीएम राजेन्द्र सिंह ने राजस्व-पंचायतराज के कर्मिंको को मुख्यालय पर रहने के आदेश दिए है. साथ ही सभी प्रकार की छुटिया भी रद्द कर दी गई. इस दौरान खेतो में भी पानी भर गया है. जिसके चलते किसानों के चेहरों पर भी चिंता की लकीरें छाने लग गई. वहीं कई जगह बरसात से सड़के गड्डो में तब्दील हो गई, जिससे राहगीरों को काफी समस्याओं का समान करना पड़ रहा है.