close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान: भारतीय पिता और पाकिस्तानी मां की संतान को मिली देश की नागरिकता, परिवार में हर्ष

भारतीय पिता और पाकिस्तानी मां के संतानों को राजस्थान गृह विभाग के अधिकारियों ने प्रमाण पत्र सौंपा.

राजस्थान: भारतीय पिता और पाकिस्तानी मां की संतान को मिली देश की नागरिकता, परिवार में हर्ष
फैय्याज ने 1998 में पाकिस्तानी महिला से शादी की थी.

जयपुर: भारतीय पिता मोहम्मद फैय्याज और पाकिस्तानी मां सुमैया की संतान सलमान को आखिरकार भारतीय नागरिकता मिल गई. राजस्थान गृह विभाग के अधिकारियों ने बुधवार को सलमान को गृहमंत्रालय की ओर से जारी नागरिकता प्रमाण पत्र सौंपा. सलमान को प्रमाण पत्र मिलने के साथ अब फैय्याज का पूरा परिवार अब भारत का नागरिक बन चुका है.

खबर के अनुसार, जोधपुर के मूल निवासी मोहम्मद फैय्याज नौकरी करने सउदी अरब चले गए थे. इस दौरान 1988 में पाकिस्तानी नागरिक सुमैया से निकाह कर लिया. दस साल बाद 1998 में फैय्याज पत्नी व दो बच्चों के साथ अपने वतन भारत लौट आए. भारत आकर उनके सामने पत्नी व बच्चों की नागरिकता को लेकर संकट खड़ा हो गया. 

करना बड़ा कई साल इंतजार
उन्होंने पत्नी व बच्चों की नागरिकता के लिए आवेदन किया. इस बीच फैयाज के दो और बच्चे हो गए. बच्चों के नाम सुमैया के पाकिस्तानी पासपोर्ट में जुड़ गए. ऐसे में उनकी भारतीय नागरिकता लेनी भी जरूरी हो गई. लंबे संघर्ष और भागदौड़ के बाद दो साल पहले सुमैया व उसके तीन बच्चों को भारतीय नागरिकता मिल गई. दो साल के संघर्ष के बाद आखिरकार सलमान को भी भारतीय नागरिकता मिल गई.

लाइव टीवी देखें-:

नागरिकता का इन शर्तों पर है प्रावधान
केंद्र सरकार ने पाकिस्तान या अन्य देशों से आकर भारत बसने वाले लोगों को भारतीय नागरिकता देने का प्रावधान कर रखा. इनमें महिला या पुरुष के दूसरे देशों के लोगों से विवाह करने या भारतीय संस्कृति से लगाव या फिर किसी अन्य कारण से भारत आकर बस जाते हैं. 

करना पड़ता है लंबा इंतजार
भारत सरकार की सुविधाएं पाने के लिए उनको भारतीय नागरिकता लेनी जरूरी होती है. हालांकि नागरिकता लेने के लिए इन लोगों को लंबा संघर्ष करना पड़ता है. दस्तावेजों या अन्य जांच के दौर से कई बार गुजरना होता है. कई बार पिता को नागरिकता मिल जाती है, लेकिन बेटों को नहीं.