बसपा विधायकों के कांग्रेस में शामिल होने पर स्पीकर की बहस पूरी, जानें अगला कदम

सुनवाई के दौरान स्पीकर की ओर से अधिवक्ता कपिल सिब्बल ने कहा कि मर्जर का आदेश स्पीकर का प्रशासनिक आदेश होता है.

बसपा विधायकों के कांग्रेस में शामिल होने पर स्पीकर की बहस पूरी, जानें अगला कदम
प्रतीकात्मक तस्वीर.

महेश पारीक, जयपुर: बसपा विधायकों के कांग्रेस में शामिल होने के मामले में गुरुवार को स्पीकर की ओर से बहस पूरी कर ली गई है. वहीं, कांग्रेस में शामिल हुए राजेन्द्र गुढ़ा सहित अन्य विधायकों की ओर से 14 अगस्त को बहस की जाएगी. अदालती समय पूरा होने के चलते न्यायाधीश महेन्द्र गोयल ने बसपा और मदन दिलावर की याचिकाओं पर सुनवाई शुक्रवार को सुबह रखी है.

सुनवाई के दौरान स्पीकर की ओर से अधिवक्ता कपिल सिब्बल ने कहा कि मर्जर का आदेश स्पीकर का प्रशासनिक आदेश होता है. उस आदेश पर शिकायत होने पर ही स्पीकर मामले को देखते हैं. वहीं स्पीकर की ओर से मेरिट पर फैसला देने से पहले हाईकोर्ट को उस पर सुनवाई का क्षेत्राधिकार नहीं है. 

यह भी पढ़ें- BJP ने खेला सियासी दांव, राजस्थान विधानसभा सत्र से पहले पेश करेगी अविश्वास प्रस्ताव

सिब्बल ने कहा कि बसपा ने स्पीकर के समक्ष कोई शिकायत पेश नहीं की है. वहीं विधायक मदन दिलावर की ओर से पेश शिकायत को मेरिट के बजाए तकनीकी आधार पर खारिज किया गया था. ऐसे में स्पीकर के इस आदेश का हाईकोर्ट ज्यूडिशियल रिव्यू नहीं कर सकता. इसके अलावा बसपा से कांग्रेस में शामिल विधायकों को अभी तक कांग्रेस विधायक दल में ही शामिल किया गया है, उन्हें कांग्रेस पार्टी की प्राथमिक सदस्यता नहीं दी गई है.

वहीं, विधायक लाखन सिंह की तरफ से अधिवक्ता राजीव धवन ने कहा कि स्पीकर के समक्ष विधायकों की ओर से दल बदल की अर्जी देते समय स्पीकर को संविधान की दसवीं अनुसूची के प्रावधानों को देखने की जरूरत नहीं होती है. दूसरी ओर राजेन्द्र गुढ़ा की ओर से अधिवक्ता सिद्धार्थ लूथरा की ओर से बहस शुरू करते ही अदालती समय समाप्त हो गया. इस पर अदालत ने मामले की सुनवाई 14 अगस्त को रखी है.

ऑनलाइन सुनवाई के दौरान अधिवक्ता राजीव धवन बार-बार स्क्रीन से बाहर हो रहे थे. इस पर अदालत ने चुटकी लेते हुए कहा कि क्या वे जानबूझकर तो स्क्रीन से बाहर नहीं हो रहे हैं. इस पर धवन ने कहा कि वे कानून की पुस्तके देख रहे हैं. गौरतलब है कि बुधवार को हुई सुनवाई का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है, जिसमें अधिवक्ता धवन चोरी छिपे हुक्का पीते नजर आ रहे हैं.