बीजेपी के खिलाफ बड़े आंदोलन के लिए कांग्रेस के वॉर रूम में बनी रणनीति -जानिए कैसे होगा हमला ?

दिल्ली में कांग्रेस वॉर रूम में कांग्रेस दिग्गजों की बैठक बुलाई गई, बैठक में पार्टी के सभी महासचिव, सचिव, पीसीसी चीफ, सीएलपी लीडर्स सहित फ्रंटल ऑरगेनाइजेशन के पदाधिकारी मौजूद रहे.

बीजेपी के खिलाफ बड़े आंदोलन के लिए कांग्रेस के वॉर रूम में बनी रणनीति -जानिए कैसे होगा हमला ?
चुप रहे तो इतिहास कभी माफ नहीं करेगा-गहलोत

मनोहर विश्नोई, दिल्ली: चुनावों से कांग्रेस को खोए हुए जनाधार को वापस पाने की उम्मीद जगी है.लिहाजा कांग्रेस नेताओं ने तय किया है कि देश भर में बड़ा आंदोलन करके विपक्षी दल के रूप में भूमिका निभाकर केन्द्र की आर्थिक नीतियों के बहाने बड़ा आंदोलन खड़ा किया जाएगा.इसी रणनीति पर चर्चा के लिए शनिवार को दिल्ली में कांग्रेस वॉर रूम में कांग्रेस दिग्गजों की बैठक बुलाई गई, बैठक में पार्टी के सभी महासचिव, सचिव, पीसीसी चीफ, सीएलपी लीडर्स सहित फ्रंटल ऑरगेनाइजेशन के पदाधिकारी मौजूद रहे.बैठक में राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत सहित प्रदेश प्रभारी अविनाश पांडे, प्रदेश सचिव विवेक बंसल मौजूद रहे ,बैठक में सीएम गहलोत ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को अपने वादे को याद दिलाते हुए कहा कि 2014 लोकसभा चुनाव से पहले जो वादे किए थे उन पर आखिर क्यों नहीं जवाब देते हैं? क्या देश में काला धन वापस आ गया? सीएम ने प्रधानमंत्री मोदी पर कटाक्ष करते हुए कहा कि आवश्यक नहीं है कि हर वायदे पूरे हो, क्योंकि कई तरह की मजबूरियां होती है,इसलिए मोदी जी वादे पूरे नहीं कर पा रहे हैं. तो कम से कम स्वीकार तो कर लें.गहलोत ने आर्थिक मंदी पर कहा कि देश में आर्थिक हालात खराब है, यह बात भारत के वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के पति ने भी स्वीकार कर ली है.ऐसे में केंद्र सरकार को चाहिए कि ऐसे हालात में पूर्व प्रधानमंत्री नरसिम्हा राव और डॉ मनमोहन सिंह के समय की नीतियों को लागू करे.
चुप रहे तो इतिहास कभी माफ नहीं करेगा
सीएम गहलोत ने देश की जनता से अपील की कि आज देश जिन हालातों से गुजर रहा है अगर हम चुप रहे तो इतिहास कभी माफ नहीं करेगा. इसलिए कांग्रेस के कार्यकर्ता अपना फर्ज निभाने के लिए केंद्र सरकार की गलत नीतियों के खिलाफ सोनिया गांधी के नेतृत्व में ब्लॉक, जिला, प्रदेश और उसके बाद राष्ट्रव्यापी विरोध प्रदर्शन करेगी.
राफेल मामले में राहुल का बचाव किया
सीएम गहलोत ने बड़ी विन्रमता से कहाकि कि हम राफेल विमान सौदे पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले का सम्मान करते हैं,लेकिन सुप्रीम कोर्ट चाहता तो सौदे की प्रक्रिया के जांच के आदेश भी दे सकता था.यह जांच सीबीआई एसआईटी या जेपीसी के द्वारा करवाई जा सकती थी.लेकिन कोर्ट ने जांच के आदेश नहीं दिए.कांग्रेस का हमेशा न्यायपालिका पर भरोसा है. हम सुप्रीम कोर्ट के फैसले का सम्मान करते हैं.गहलोत ने एक बार फिर दोहराया कि देश का मीडिया केन्द्र सरकार के दबाव में है इसलिए सरकार विरोधी खबरों को नहीं दिखाते.गहलोत ने यह भी कहा कि मुझे नहीं पता कि जिन चैनलों के माइक यहां रखे हुए हैं.उन पर मेरा बयान प्रसारित होगा या नहीं.उन्होंने कहा कि मैं पत्रकारों की मजबूरी को समझता हूं.केन्द्र सरकार मीडिया घरानों के मालिकों पर ईडी अथवा इनकमटैक्स की कार्यवाही करवा रही है इसलिए मीडिया दबाव में है