बैंकों तक पैसा पहुंचाने वाली एटीएम वैन की सुरक्षा को लेकर बने सख्त नियम

नए नियम बनने के बाद बैंक से कैश विशेष रूप से तैयार रोकड़ वेन से ही परिवहन किया जा सकेगा, किराए पर ली जाने वाली टैक्सी वैन नहीं चलेगी. 

बैंकों तक पैसा पहुंचाने वाली एटीएम वैन की सुरक्षा को लेकर बने सख्त नियम
राजस्थान सरकार प्राइवेट सिक्युरिटी एजेंसी रूल्स 2019 जारी कर रही हैं

विष्णु शर्मा,जयपुर : बैंकों से एटीएम तक ले जाने वाली रोकड़ को पूरी तरह सुरक्षित रखने को लेकर राजस्थान में पहली बार नियम बनाए गए हैं. नए नियमों के मुताबिक  विशेष रूप से डिजाइन और तैयार की गई वैन से ही रोकड़ ले जाया जा सकेगा. वैन में सुरक्षा के लिए सशस्त्र गार्ड के साथ तीसरी आंख का भी पहरा रहेगा. राज्य कैबिनेट की मुहर लगने के बाद जल्द ही नए नियम लागू हो जाएंगे.राजस्थान में अभी निजी और सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक केश को एटीएम तक ले जाने के लिए पुलिस और प्राइवेट सिक्युरिटी एजेंसियों की सहायता लेते हैं परंतु इनके संचालन के लिए कोई मानक प्रक्रिया निर्धारित नहीं है हाल ही रोकड़ वैनों और रोकड़ इंटरनल कक्षों पर हमले, एटीएम कर्मचारियों के राशि गबन करने जैसी घटनाओं के बाद  गृहमंत्रालय ने द प्राइवेट सिक्युरिटी एजेंसी एक्ट 2005 की धारा 24 के तहत प्राइवेट सिक्युरिटी टू केश ट्रांसपोर्टेशन एक्टिविटी रूल्स 2018 जारी किए इसके बाद मंत्रालय ने राज्य सरकारों से भी एक्ट की धारा 25 के तहत नियम बनाने के निर्देश दिए इस पर राजस्थान सरकार भी राजस्थान प्राइवेट सिक्युरिटी एजेंसीज (प्राइवेट सिक्युरिटी टू केश ट्रांसपोर्टेशन एक्टिविटी) रूल्स 2019 जारी कर रही हैं 
देश में आठ हजार से अधिक हैं रोकड़ वैन 
देश में आठ हजार से अधिक निजी स्वामित्व में रोकड वैन हैं जो बैंकों से एटीएम तक पैसा परिवहन करती है  बैकों से एटीएम तक रोकड़ परिवहन के लिए अभी कोई नियम नहीं है नए नियम बनने के बाद बैंक से कैश विशेष रूप से तैयार रोकड वेन से ही परिवहन किया जा सकेगा किराए पर ली जाने वाली टैक्सी वैन नहीं चलेगी. इन वैन की जीपीएस से ट्रैकिंग की जाएगी.
जानिए कैसी होगी नई रोकड़ वैन  
- नई रोकड़ वैन 2200 सीसी इंजन की क्षमता और ट्यूबलेस टायर वाली होगी
- वैन 7 साल से ज्यादा पुरानी नहीं होगी
- वैन में 5 आदमियों के बैठने की जगह होगी
- वैन के रोकड़ कंपार्टमेंट इलेक्ट्रॉनिक लॉक होगा
- वैन में सीसीटीवी सर्विलांस लगा हुआ होगा
- सीसीटीवी में 5 दिन की रिकॉर्डिंग सुरक्षित रखने की सुविधा होगी
- तीन कैमरे लगे होंगे, जीपीएस आधारित अलार्म सायरन लगेगा
- अग्निशमन यंत्र और इमरजेंसी लाइट होगी
सिक्योरिटी एजेंसी व स्टाफ पर पैनी नजर 
राज्य सरकार की ओर से बनाए नए नियमों में सुरक्षित वैन के साथ-साथ सिक्युरिटी एजेंसी और वैन में तैनात कर्मचारियों पर खास ध्यान रखा गया है नई वैन में तैनात होने वाले रोकड़ कर्मचारी से लेकर सुरक्षा गार्ड को पूरी जांच परख के बाद ही रखा जाएगा जिससे कोई अनहोनी से बचा जा सके. एटीएम में रुपए डालने का समय भी तय किया गया है
उठाए जाएंगे कुछ खास कदम  
- सिक्युरिटी एजेंसी के प्रत्येक व्यक्ति के निवास, आचरण का सत्यापन किया जाएगा
- वैन में एक चालक, दो सशस्त्र गार्ड, रोकड़ कर्मचारी और एटीएम अभिरक्षक मौजूद रहेंगे
- रोकड़ की अधिकता पर सुरक्षा गार्ड बढ़ाई भी जा सकेगी
- एक सशस्त्र गार्ड चालक के साथ दूसरा रोकड़ के साथ बैठेगा
- रास्ते में बॉक्स लादते-उतारते, शौच, चायपान और भोजनावकाश में एक गार्ड वैन में मौजूद रहेगा
- एटीम मशीन में शहरी इलाके में रात 9 बजे और ग्रामीण इलाके में 6 बजे से पहले रकम डाल सकेंगे
-  गार्डों के पास 12 बोर डीबीबीएल शॉटगन बंदूक रहेगी
- गार्ड को कम से कम दो साल में एक बार फायर का परीक्षण होना चाहिए
- बंदूक के कारतूस दो साल में एक बार बदले जाने चाहिए 
- कर्मचारियों के आधार का सत्यापन किया जाएगा
- कर्मचारियों को सुरक्षा का पर्याप्त प्रशिक्षण दिया जाएगा
- जीपीएस ट्रैकिंग के जरिए वैन पर नजर रखी जाएगी
-कोई रोकड़ वैन प्रति दौरे पर पांच करोड़ से अधिक राशि नहीं ले जा पाएगी
-सुरक्षित वैन दस करोड़ तक राशि ले जा सकेगी
बैंक कर्मचारी यूनियन के नेता सूरजभान आमेरा का कहना है कि सरकार ने एक्ट में परिवर्तन क बाद जो नियम बनाए हैं वो स्वागत योग्य है. कर्मचारी यूनियन लंबे समय से इसकी मांग करती आ रही थी अब सरकार ने ये नियम बनाए हैं जिससे बैंकों की राशि तो बचेगी ही साथ ही लोगों को भी लाभ होगा.