जयपुर: एनएमसी बिल के विरोध में डॉक्टरों ने किया कार्य बहिष्कार, अनिश्चितकालीन हड़ताल की दी चेतावनी

इसी कड़ी में राजस्थानी जयपुर के एसएमएस मेडिकल कॉलेज से संबंध अस्पतालों के रेजिडेंट डॉक्टर गुरुवार से चौबीस घंटे की हड़ताल पर है.

जयपुर: एनएमसी बिल के विरोध में डॉक्टरों ने किया कार्य बहिष्कार, अनिश्चितकालीन हड़ताल की दी चेतावनी
इस कारण कई मरीजों के ऑपरेशन टालने पड़े. (प्रतीकात्मक फोटो)

अनुप शर्मा, जयपुर: पूरे देश के अलावा राजस्थान के डॉक्टर भी एनएमसी बिल 2019 का विरोध कर रहे हैं. इसी कड़ी में राजधानी जयपुर के एसएमएस मेडिकल कॉलेज से संबंध अस्पतालों के रेजिडेंट डॉक्टर गुरुवार से चौबीस घंटे की हड़ताल पर है.

इस दौरान सेवारत चिकित्सा संघ ने 2 घंटे कार्य बहिष्कार किया है. हड़ताल और कार्य बहिष्कार के कारण अस्पतालों में मरीजों को इलाज के लिए इधर उधर भटकना पड़ रहा है. वही कई गंभीर बीमारी के मरीजों के ऑपरेशन टालने पड़े. 

जयपुर एसोसिएशन ऑफ रेजिडेंट डॉक्टर्स के अध्यक्ष डॉक्टर विजय चौधरी ने बताया कि नेशनल मेडिकल कमीशन बिल एनएमसी के प्रावधानों के खिलाफ सभी रेजिडेंट 24 घंटे की हड़ताल कर रहा है. हमारी हड़ताल एनएमसी बिल के कुछ प्रावधानों के खिलाफ है. बिल की वजह से मेडिकल कॉलेजों में चिकित्सा शिक्षा महंगी हो जाएगी. 

उन्होंने कहा कि इस बिल में मौजूदा धारा-32 के तहत करीब 3.5 लाख लोग जिन्होंने चिकित्सा की पढ़ाई नहीं की है उन्हें भी लाइसेंस मिल जाएगा. इससे लोगों की जान खतरे में पड़ सकती है. 

लाइव टीवी देखें-:

उन्होंने कहा कि इस बिल में कम्युनिटी हेल्थ प्रोवाइडर शब्द को ठीक से परिभाषित नहीं किया है. जिससे अब नर्स, फार्मासिस्ट और पैरामेडिक्स आधुनिक दवाओं के साथ प्रैक्टिस कर सकेंगे और वह इसके लिए प्रशिक्षित नहीं होते हैं. 

संगठन से जुड़े लोगों ने चेतावनी दी है कि अगर केंद्र सरकार ने हमारी मांगे नहीं मानी तो जयपुर सहित प्रदेश के सभी चिकित्सक अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जाएंगे. जिसकी पूरी जिम्मेदारी सरकार की होगी.