राजस्थान: XEN के तबादलों पर संग्राम, बिना पोस्ट ही दे दी पोस्टिंग

जलापूर्ति प्रकोष्ठ में एक्सईएन के तबादलों पर संग्राम मच गया है. नियमों के तहत जलापूर्ति प्रकोष्ठ में एक्सईएन की पोस्ट ही नहीं है, लेकिन इसके बावजूद नियमों को ताक पर रखकर 4 एक्सईएन को लगा दिया.

राजस्थान: XEN के तबादलों पर संग्राम, बिना पोस्ट ही दे दी पोस्टिंग
फाइल फोटो

जयपुर: जलापूर्ति प्रकोष्ठ में एक्सईएन के तबादलों पर संग्राम मच गया है. नियमों के तहत जलापूर्ति प्रकोष्ठ में एक्सईएन की पोस्ट ही नहीं है, लेकिन इसके बावजूद नियमों को ताक पर रखकर 4 एक्सईएन को लगा दिया. स्वायत्त शासन निदेशक के आदेश के बाद पीएचईडी गीयर संगठन ने इस फरमान का विरोध जताया है. एक्सईएन लोकेश सैनी को नगर परिषद नागौर,एन के वर्मा को नगर परिषद चौमूं, धमेंद्र कुमावत को नगर परिषद करौली, आलोक नाग को नगर परिषद श्रीगंगानगर लगाया है.

ये भी पढ़ें: 15 जुलाई से होंगे Rajasthan University के Exam, गाइडलाइन हुई जारी

आदेश वापिस लिया जाए
चारों एक्सईएन के तबादलों के बाद जलापूर्ति प्रकोष्ठ में नया विवाद शुरू हो गया है. चारों इंजीनियर समेत गीयर संगठन ने निदेशक से मांग कर रहा है यह आदेश वापस लिया जाए. क्योंकि बिना पोस्ट के ये इंजीनियर इन नगर परिषद में कैसे काम कर सकते हैं.

74वां संविधान संशोधन यह कहता है
संविधान के 74वें संशोधन कहना है कि प्रत्येक संभाग में पेयजल आपूर्ति का कार्य नगरीय निकायों को हस्तान्तरित किया गया है. इसके अंतगर्त बीकानेर संभाग से श्रीगंगानगर, जोधपुर संभाग से जैसलमेर, कोटा संभाग में बूंदी, अजमेर संभाग में नागौर, भरतपुर संभाग में करौली, उदयपुर संभाग में नाथद्धारा और जयपुर संभाग में चौमूं में पेयजल वितरण का कार्य शहरी निकायों को हस्तान्तरित किया जाएगा.

पोस्ट बिना कैसे कर दिया तबादला
गीयर संगठन के अध्यक्ष त्रिलोक चतुर्वेदी ने निदेशक को पत्र लिखकर यह कहा है कि जब इन निकायों में एक्सईएन की पोस्ट ही नहीं तो कैसे एक्सईएन का तबादला किया जा सकता है. इन निकायों में जेईएन, एईएन की पोस्ट है. वहीं जलापूर्ति के कार्यों को करते हैं.

ये भी पढ़ें: दिखने लगा तेल की बढ़ी कीमतों का असर, फलों के दामों में भारी उछाल