जयपुर में इस वक्त सड़कों पर दौड़ती है मौत, एक स्टडी में सामने आये ये फैक्ट्स

राजधानी जयपुर में बढ़ते सड़क हादसे ना सिर्फ आमजन के लिए परेशानी बनी हुई है बल्कि जयपुर यातायात पुलिस के लिए भी एक बड़ा सर दर्द बनी है. 

जयपुर में इस वक्त सड़कों पर दौड़ती है मौत, एक स्टडी में सामने आये ये फैक्ट्स
यातायात पुलिस ने वजह तो ढूंढ ली, लेकिन इसे रोकना पुलिस के लिए अभी भी चैलेंज बना हुआ है.

जयपुर: राजधानी जयपुर में बढ़ते सड़क हादसे ना सिर्फ आमजन के लिए परेशानी बनी हुई है बल्कि जयपुर यातायात पुलिस के लिए भी एक बड़ा सर दर्द बनी है. इन्हें कम करने के लिए जयपुर ट्रैफिक पुलिस ने एक नयी कार्ययोजना तैयार की है और उसके तहत पूरे शहर में एक ट्रैफिक सर्वे करवाया गया है. इन दुर्घटनाओं के खास कारण क्या है वो इस सर्वे से निकल कर सामने आये हैं.

यातायात व्यवस्था में सुधार, फेरबदल, परिवहन व्यवस्था, लोगों को सड़क दुर्घटनाओं से बचाने को लेकर हाल ही में जयपुर ट्रैफिक पुलिस ने एक स्टडी करवाई है. इसमें पूरी तरह फोकस यातायात व्यवस्था को पटरी पर लाने पर रखा गया है. इसका कारण, शहर की सड़कों पर लगातार बढता यातायात का दबाव माना जा रहा है. ऐसी कई वजह है जिसके कारण सड़क हादसे होते हैं और लोग अपनी जान गवां बैठते हैं. यातायात दुर्धटनाओं के दौरान लोगों की मौत के कारणों को जानने के लिए शहर में ये स्टडी की गयी, जिसमे कई नयी बाते निकलकर सामने आयी है जिनके आधार पर ट्रैफिक की नयी रुपरेखा तैयार की जायेगी.

ये भी पढ़ें: टिड्डियों से निपटने के लिए केंद्र की तैयारी पूरी, हैलीकॉप्टर से होगा दवा का छिड़काव

स्टडी में पाया गया कि रात 9 बजे से सुबह 3 बजे तक जयपुर की सड़कों पर सबसे ज्यादा सड़क हादसों में मौतें होती है. इन मौतों को रोकना यातायात पुलिस के लिए बड़ा चैलेंज बना हुआ है. जयपुर एडिशनल कमिश्नर ट्रैफिक राहुल प्रकाश ने बताया कि पिछले साल 25 थाना इलाकों में करीब 16 हादसों की स्टडी ट्रैफिक पुलिस ने करवाई, इसमें एक बात निकल कर सामने आई कि शहर में रात के समय सबसे ज्यादा सड़क हादसे हो रहे हैं.  पुलिस ने ऐसे स्थान ऐसे चौराहे को चिन्हित भी कर लिया है. उन्होंने बताया कि ड्रिंक एंड ड्राइव, सड़क पर लाइट की कमी, खराब रास्ते और तेज रफ्तार की वजह से सबसे ज्यादा सड़क हादसे होते हैं.

यातायात पुलिस ने वजह तो ढूंढ ली, लेकिन इसे रोकना पुलिस के लिए अभी भी चैलेंज बना हुआ है. पुलिस की मानें तो सख्ती ही इन हादसों को रोक सकती है, क्योंकि रात के समय ट्रैफिक पुलिस कर्मी ड्यूटी पर नहीं रहते ऐसे में अब पुलिस डिजिटल के माध्यम से नियम तोड़ने वालों के खिलाफ कार्रवाई करेगी. फिलहाल आदर्श पथ और जयपुर के कुछ सड़कों पर ही हाईटेक कैमरे लगे हैं इन कैमरों की मदद से चालान बनाया जाता है, लेकिन पुलिस अब कैमरे का दायरा जयपुर के और भी इलाकों में बढ़ाएगी, ताकि नियम तोड़ने वालों के खिलाफ कार्रवाई हो.

ये भी पढ़ें: कांग्रेस के कार्यक्रम में कार्यकर्ताओं ने सोशल डिस्टेंसिंग की उड़ाई धज्जियां, पायलट ने लताड़ा