close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

शिल्पकार ने सुई की नोक पर बनाई वर्ल्ड कप ट्रॉफी, देख कर आप भी रह जाएंगे हैरान

उदयपुर के शिल्पकार इकबाल सक्का ने दुनिया की सबसे छोटी सोने की वर्ल्ड कप ट्रॉफी तैयार कर टीम इंडिया का हौंसला बढ़ाने का प्रयास किया है. जो ना केवल देखने में अनुठी है बल्की हूबहू वर्ल्ड कप ट्रॉफी की तहर ही दिखाई देती है. 

शिल्पकार ने सुई की नोक पर बनाई वर्ल्ड कप ट्रॉफी, देख कर आप भी रह जाएंगे हैरान
ट्रॉफी के साथ बनाए बल्ले की उंचाई ग्रिप सहीत 1 मीलीमिटर और बॉल की गोलाई 5 मीलीमिटर है

उदयपुर/ अविनाश जगनावत: हिन्दूस्तान में क्रिकेट को धर्म की तरह पुजा जाता है. यही कारण है कि बात जब वर्ल्ड कप जैसे बड़े आयोजन की हो तो हर भारतीय की इच्छा होती है कि टीम इंडिया ही इस ट्रॉफी पर अपना कब्जा जमाए. टीम का जोश बढ़ाने के लिए क्रिकेट प्रेमि कई तरह के प्रयास करते हैं लेकिन उदयपुर के रिकॉर्डधारी शिल्प कार ने अपनी सूक्ष्म कला के दम पर अनुठे अंदाज में इंडियन टीम का उत्साह वर्धन करने का प्रयास किया है. 

उदयपुर के शिल्पकार इकबाल सक्का ने दुनिया की सबसे छोटी सोने की वर्ल्ड कप ट्रॉफी तैयार कर टीम इंडिया का हौंसला बढ़ाने का प्रयास किया है. जो ना केवल देखने में अनुठी है बल्की हूबहू वर्ल्ड कप ट्रॉफी की तहर ही दिखाई देती है. 

इकबाल सक्का के द्धारा बनाई गई वर्ल्ड कप ट्राफी का वजन मात्र 0.010 मिलीग्राम है. वहीं इस ट्रॉफी की उंचाई मात्र 1 मिलीमीटर है. ट्रॉफी के साथ बनाए बल्ले की उंचाई ग्रिप सहीत 1 मीलीमिटर और बॉल की गोलाई 5 मीलीमिटर है. शिल्पकार इकबाल सक्का ने अपनी कारीगिरि का हूनर दिखाते हुए सूई की नोक पर सजाया है. इन तीनों कलाकृतियों को खुली आंखों से नहीं देखा जा सकता है. इसके लिए लैंस की सहायता लेनी पड़ती है. इकबाल सक्का का कहना है कि यह कृति उन्होंने टीम इंडिया का हौंसला बढ़ाने के लिए बनाई है लेकिन जो भी टीम वर्ल्ड कप पर कब्जा जमाए यह छोटी ट्रोफी भी उसी टीम को भेट की जाए. साथ ही उन्होंने भरोसा जताया कि भारतीय क्रिकेट टीम इंग्लैंड से वर्ल्ड कप ट्रोफी लेकर ही आएगी और उनक वर्ल्ड कप भी देश में ही रहेगा. 

बहरआल वर्ल्ड कप ट्रॉफी पर कौनसी टीम अपना कब्जा जमाने सफल होगी यत तो 14 जुलाई को होने वाले मुकाबले के बाद ही साफ होगा लेकिन अगर इकबाल सक्का की यह ट्रॉफी विजेता टीम तक पहुंचती है तो उनकी इस कलाकृति को विश्व पटल पर एक नई पहचान जरूर मिलेगी.