close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

J&K के राज्यपाल ने भारत के संविधान के साथ किया खिलवाड़

राज्यपाल मलिक ने भारत के संविधान के साथ खिलवाड़ किया है और यह सीधा सीधा प्रधानमंत्री और प्रधानमंत्री कार्यालय के इशारों पर हुआ है.

J&K के राज्यपाल ने भारत के संविधान के साथ किया खिलवाड़
राज्यपाल मलिक ने भारत के संविधान के साथ खिलवाड़ किया है - तिवारी. (फाइल फोटो)

जयपुर: कांग्रेस ने जम्मू कश्मीर विधानसभा भंग किए जाने के मामले में राज्यपाल सत्यपाल मलिक की कड़ी आलोचना करते हुए इस मामले में प्रधानमंत्री और प्रधानमंत्री कार्यालय पर निशाना साधा. कांग्रेस ने इसे देश के संविधान के साथ खिलवाड़ बताया है. कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता मनीष तिवारी ने यहां संवाददाताओं से बातचीत में कहा, ‘‘जम्मू-कश्मीर में जिस तरह के असंवैधानिक अनैतिक और अनुचित कार्य को जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल ने अंजाम दिया है हम उसकी कड़े शब्दों में निंदा करते हैं.’’ 

उन्होंने आरोप लगाया कि राज्यपाल मलिक ने भारत के संविधान के साथ खिलवाड़ किया है और यह सीधा सीधा प्रधानमंत्री और प्रधानमंत्री कार्यालय के इशारों पर हुआ है. उल्लेखनीय है कि पीडीपी, नेशनल कांफ्रेंस व कांग्रेस में गठबंधन बनने की अटकलों के बीच राज्यपाल मलिक ने जम्मू कश्मीर की विधानसभा बुधवार को भंग कर दी. राज्य में पीडीपी व भाजपा गठबंधन टूटने के बाद राज्यपाल शासन लागू है जिसकी छह महीने की अवधि 19 दिसंबर को पूरी हो रही है.

तिवारी ने कहा, ‘‘हम जम्मू कश्मीर के राज्यपाल से पूछना चाहते हैं कि छह महीने पहले जब पीडीपी व भाजपा गठबंधन सरकार से भाजपा ने अपना समर्थन वापस लिया, उस वक्त विधानसभा क्यों नहीं भंग की गयी?’’ तिवारी के अनुसार भाजपा ने पिछले पांच-छह महीनों में विभिन्न राजनीतिक दलों के विधायकों को तोड़ने व लुभाने की पूरी कोशिश की लेकिन उसका यह षडयंत्र पूरी तरह विफल रहा. यह स्पष्ट हो गया कि भाजपा को कोई राजनीतिक दल, कोई विधायक समर्थन देने को तैयार नहीं है.

कांग्रेस नेता ने कहा कि कुछ विधायकों ने यह पहल की कि जम्मू कश्मीर में दुबारा से लोकप्रिय सरकार बने. पीडीपी, नेशनल कांफ्रेस व भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस ने साथ आने पर विचार किया. फिर जब यह बात राज्यपाल को बताई गई तो उन्होंने आनन फानन में छह महीने निलंबित चल रही विधानसभा को भंग कर दिया.

(इनपुट भाषा)