close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

जोधपुर में रंग लाई एक युवा टीम की मेहनत, स्थापित हुआ आधुनिक ब्लड बैंक

आधुनिक मशीनरी से युक्त इस ब्लड बैंक में करीब 1 करोड़ की लागत से जर्मनी से लाई गई मशीनें लगाई गई है.

जोधपुर में रंग लाई एक युवा टीम की मेहनत, स्थापित हुआ आधुनिक ब्लड बैंक
इस ब्लड बैंक में लागत मूल्य पर सरकारी दरों से रक्त उपलब्ध कराया जा रहा है.

अरुण हर्ष/जोधपुर: 'रक्तदान-महादान' के संकल्प के साथ जन सेवा कार्य में जुटी रोटरी क्लब जोधपुर की टीम ने अपने अथक प्रयासों से आमजन की सुविधा के लिए ब्लड बैंक की स्थापना की है. अब इस ब्लड बैंक के माध्यम से जरूरतमंदों को सरकारी दर पर न केवल रक्त उपलब्ध कराया जा रहा है बल्कि आपातकाल स्थिति में हर ग्रुप का ब्लड यहां उपलब्ध होने से कई मरीजों की जान भी बची है.

मेडिकल चौराहे के पास स्थित रोटरी क्लब का यह भवन लंबे समय तक आयोजनों, कार्यक्रमों एवं जूते, चप्पल ,कपड़ों की सेल के लिए उपयोग में आता था. लोग कहते थे कि रोटरी क्लब वालों ने सस्ती कीमतों पर जूते चप्पल लोगों को मुहैया करा रहे हैं. करीब 2 वर्षों पहले रोटरी क्लब की युवा टीम ने इस भवन में ब्लड बैंक स्थापित करने का निर्णय लिया. विपरीत आर्थिक परिस्थितियों के बावजूद भी दृढ़ निश्चय और अटल विश्वास नहीं डिगा. 

रोटरी क्लब की टीम ने इस मुहिम को आगे बढ़ाया और देखते ही देखते भामाशाह के सहयोग से आज इस भवन में आधुनिकतम ब्लड बैंक स्थापित हो चुका है. आधुनिक मशीनरी से युक्त इस ब्लड बैंक में करीब 1 करोड़ की लागत से जर्मनी से लाई गई मशीनें लगाई गई है.

रोटरी क्लब में आने वाले मरीजों के रिश्तेदारों को कोई परेशानी नहीं हो इसके लिए क्लब से जुड़े तमाम सदस्य समय-समय पर रक्तदान करते हैं. वही और लोगों को भी रक्तदान करने के लिए प्रेरित करते रहते हैं. इन लोगों का कहना है कि रक्तदान करने के बाद उन्हें खुशी में होती है कि उनके द्वारा किया गया रक्तदान जरूरतमंद के काम आता है 

रोटरी क्लब की मदद से बने इस ब्लड बैंक में लागत मूल्य पर सरकारी दरों से रक्त उपलब्ध कराया जा रहा है. साथ ही समय-समय पर रक्तदान शिविरों का आयोजन कर जरूरतमंदों के लिए रक्त एकत्रित किया जा रहा है. रोटरी क्लब की टीम ने बताया कि आम तौर पर सरकारी अस्पतालों में रक्त की काफी कमी रहती है और इस कारण कई बार मरीजों को अपनी जान से हाथ धोना पड़ता है. इसी को ध्यान रखते हुए रोटरी क्लब की कमी को पूरा करने की दिशा में ब्लड बैंक स्थापित किया है. 

अब यह ब्लड बैंक आमजन के लिए काफी उपयोगी साबित हो रहा है. वहीं भविष्य में रोटरी क्लब थैलेसीमिया पीड़ित मरीजों के लिए फ्री में ब्लड उपलब्ध कराने की सोच रहा है. इस संबंध में उन्होंने अस्पताल प्रशासन से बातचीत भी की है. वहीं यहां से ब्लड ले जाने वाले लोग भी इसकी सराहना करते हैं. 

लोगों का कहना है कि जहां सरकारी अस्पतालों में चक्कर लगाने पड़ते हैं जबकि रोटरी क्लब में आकर उन्हें हाथों-हाथ ब्लड मिल जाता है. जिससे मरीज को समय पर राहत मिल जाती है. रोटरी क्लब का यह प्रयास वाकई सराहनीय है. यह ब्लड बैंक अन्य स्वयं सेवी संस्थाओं के लिए भी एक उदाहरण है कि यदि निस्वार्थ भाव से किसी कार्य को शुरू किया जाए तो निश्चित ही वह कार्य अंजाम तक पहुंचता है.