Rajasthan Budget 2021: गहलोत सरकार दूर करेगी 'बेरोजगारी', 2 साल में करेगी 50 हजार पदों पर भर्तियां

Rajasthan Samachar: मुख्यमंत्री ने कहा, 'राज्य के युवाओं को रोजगार के अवसर उपलब्ध कराने के लिए आगामी दो साल में 50,000 से अधिक पदों पर भर्ती की जाएगी.' 

Rajasthan Budget 2021: गहलोत सरकार दूर करेगी 'बेरोजगारी', 2 साल में करेगी 50 हजार पदों पर भर्तियां
राजस्थान के मुख्यमंत्री हैं अशोक गहलोत. (फाइल फोटो)

Jaipur: राजस्थान सरकार अगले दो साल में 50,000 पदों पर भर्तियां करेगी और अगले साल से कृषि क्षेत्र के लिए अलग बजट पेश करेगी. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने बुधवार को राज्य विधानसभा (Rajasthan Vidhansabha) में वित्त वर्ष 2021-22 के लिए पहला पेपरलेस बजट (Paperless Budget) पेश करते हुए यह घोषणा की.

मुख्यमंत्री ने कहा, 'राज्य के युवाओं को रोजगार के अवसर उपलब्ध कराने के लिए आगामी दो साल में 50,000 से अधिक पदों पर भर्ती की जाएगी.' उन्होंने कहा कि हमारी सरकार किसान (Farmers) हितैषी रही है और वह अन्नदाता के बेहतर भविष्य व हितों को देखते हुए आगामी वर्ष से कृषि बजट अलग से पेश करेगी.

ये भी पढ़ें-Rajasthan Budget 2021 में सरकार नहीं लाई कोई नया Tax, 910 करोड़ रुपए की दी गई राहत

 

इसके साथ ही गहलोत ने शांति व अंहिसा प्रकोष्ठ को उन्नत कर शांति व अहिंसा निदेशालय बनाने, पात्र युवाओं को वर्तमान में देय बेरोजगारी भत्ते में 1,000 रुपए की बढ़ोतरी करने, राज्य में कुछ परीक्षाओं के लिए समान प्रतियोगी परीक्षा आयोजित करने की घोषणा की.

उन्होंने कहा कि अगले वर्ष से 3,500 करोड़ रुपए की लागत से सार्वभौमिक स्वास्थ्य सुविधा (यूनिवर्सल हैल्थ कवरेज) लागू की जाएगी. इसके तहत राज्य के प्रत्येक परिवार को पांच लाख रुपए तक की चिकित्सा बीमा का लाभ मिलेगा.

गहलोत ने बजट भाषण में कहा,' इस बजट को बनाते समय हमारे सामने सबसे बड़ी चुनौती यह रही कि मुश्किल आर्थिक हालात के बावजूद भी प्रदेश के विकास के लिये साधनों की कमी ना रहे हम यह संकल्प ले रहे है कि दूरगामी सोच के साथ आर्थिक संसाधन जुटाए जाने के अभिनव प्रयास किए जाएंगे.'

ये भी पढ़ें-स्वास्थ्य को समर्पित बजट से स्वस्थ राजस्थान का सपना होगा पूरा: डॉ रघु शर्मा

उन्होंने कहा कि हमेशा की तरह इस चुनौती को भी एक अवसर में बदलेंगे. कोरोना महामारी का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि पिछला एक वर्ष हम सब के लिए बहुत कठिन रहा है. इस आपदा को अवसरों में बदलते हुए हमने राज्य में स्वास्थ्य बुनियादी ढांचे को मजबूत किया है. राज्य के सभी जिलों में कोरोना RT-PCR जांच सुविधा सुनिश्चित की गयी है.

गहलोत ने विशेष कोविड पैकेज की घोषणा करते हुए कि ‘हमने इस महामारी काल में 31 लाख असहाय, निराश्रित परिवारों को 3500 रुपए प्रति परिवार के हिसाब से 1,155 करोड़ रुपए सहायता प्रदान की हैं. अब मैं आगामी वर्ष में इन परिवारों को अंतिम किस्त के रूप में एक एक हजार रुपए की और सहायता देने की घोषणा करता हूं. मैं शहरी क्षेत्र के स्ट्रीट वेंडर्स एवं सभी क्षेत्रों के युवाओं व बेरोजगारो को स्व रोजगार एवं रोजगार की जरुरतों के लिए Indira Gandhi शहरी क्रेडिट कार्ड योजना शुरू करने की घोषणा करता हूं.’ इस योजना में पांच लाख जरुरतमंदों को 50,000 रुपए तक का ब्याज मुक्त रिण उपलब्ध कराया जाएगा.

(इनपुट-भाषा)