उदयपुर: होम आइसोलेशन को लेकर DM का अहम निर्देश, इन शर्तों को करना होगा पूरा

मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी द्वारा प्रतिदिन प्राप्त होम आइसोलेशन प्रस्तावित घरों की सूची, नगर निगम, उदयपुर व उपखंड अधिकारी को उपलब्ध कराई जाएगी.

उदयपुर: होम आइसोलेशन को लेकर DM का अहम निर्देश, इन शर्तों को करना होगा पूरा
होम आइसोलेशन को लेकर विभागीय अधिकारियों को महत्वपूर्ण निर्देश दिए हैं.

अविनाश जगनावत/उदयपुर: राजस्थान के उदयपुर में कोरोना वायरस (Coronavirus) पॉजिटिव आने वाले रोगी, अब होम आइसोलेशन में रह सकेंगे. इसके लिए जिला अधिकारी आनंदी ने होम आइसोलेशन को लेकर विभागीय अधिकारियों को महत्वपूर्ण निर्देश दिए हैं. इसके लिए कुछ प्रक्रिया का पालन करना होगा.

यह रहेगी प्रक्रिया
मुख्य चिकित्सा एवं चिकित्सा अधिकारी द्वारा होम आइसोलेशन के शर्तो की प्रभावी देखभाल करने के लिए, क्षेत्रवार पृथक से टीम नियुक्त की जाएगी. टीम की ओर से होम आइसोलेशन वाले संक्रमितों की रिपोर्ट, महाराणा भुपाल राजकीय चिकित्सालय अधीक्षक के साथ, संक्रमित का उपचार करने वाले चिकित्सा अधिकारी, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी, उदयपुर नोडल ऑफिसर होम आइसोलेशन को प्रतिदिन उपलब्ध कराई जाएगी.

वहीं, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी द्वारा प्रतिदिन प्राप्त होम आइसोलेशन प्रस्तावित घरों की सूची, नगर निगम, उदयपुर व उपखंड अधिकारी को उपलब्ध कराई जाएगी. यदि कोई कोविड रोगी पूर्व में ही अस्पताल में भर्ती है तो, नगर निगम या उपखण्ड अधिकारी की रिपोर्ट एवं अन्य संबंधित रिपोर्ट प्राप्त करने के उपरांत, उनको होम आइसोलेशन हेतु, शिफ्ट होने की अनुमति देंगे.

मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी, उदयपुर, होम आइसोलेशन द्वारा रोगी के परिवार से संपर्क की आवश्यक शर्ते पूर्री नहीं होने की स्थिति में, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी से अनुमोदन प्राप्त कर उनको शिफ्ट किया जाना अनुमत नहीं है.

मॉनिटरिंग की प्रक्रिया निर्धारित
होम आइसोलेशन वाले रोगी या केयर गीवर का पृथक से व्हाट्सअप ग्रुप (Whatsapp) बनाया गया है. यहां प्रतिदिन न्यूनतम दो बार रोगी की स्वास्थ्य संबंधी सूचना प्राप्त की जाएगी. इसकी निगरानी संबंधित प्रभारी द्वारा नियंत्रण किया जाएगा.

सीएमएचओ द्वारा इन्हें आपात स्थिति में, संपर्क हेतु डॉक्टर व एंबुंलेंस का नंबर दिया जाएगा. रोगी के होम आइसोलेशन में भर्ती होने के उपरांत सीएमएचओ की टीम द्वारा साफ-सफाई, संक्रमण रोकथाम, निमित दवाई, शरीर तापमान, पल्स रेट चेक करना आदि के बारे में सूचित करना होगा, तथा रोगी के स्मार्ट फोन पर आरोग्य सेतु एप डाउनलोड करवाया जाएगा.

रोगी/केयर गिवर को रोग की निगरानी की मुख्य जानकारी यथा-पल्स रेट, रक्त ऑक्सीजन के स्तर शरीर तापमान, लक्षण को उपकरण कैसे जांचा जाता है की जानकारी दी जाएगी. उनसे आश्वस्तता ली जाएगी कि, वह इन उपकरणों से जांच कर रोगी की स्थित के बारे में, दिन में दो बार सूचना उन्हें जोड़े गए वाट्सअप ग्रुप में डालें. इसकी दैनिक मॉनीटरिंग का कार्य क्षेत्र के लिए मुख्य चिकित्सा एंव स्वास्थय अधिकारी द्वारा नियुक्त प्रभारी चिकित्सा अधिकारी के स्तर से किया जाएगा.

कोविड-19 (COVID-19) पॉजिटिव के उपचाराधीन, होम आइसोलेशन में स्वास्थ्य संबंधित आपात स्थिति होने पर, इसका प्रबंधन अधीक्षक, राजकीय महाराणा भूपाल चिकित्सालय, उदयपुर के द्वारा किया जाएगा. आपात स्थिति में रोगी के शिफ्टिंग की कार्यवाही, क्षेत्र के लिए मुख्य चिकित्सा एंव स्वास्थ्य अधिकारी द्वारा नियुक्त प्रभारी चिकित्सा अधिकारी के स्तर से, कार्यालय मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी उदयपुर के नियंत्रण कक्ष से समन्वय स्थापित करते हुए की जाएगी.

क्षेत्र के लिए मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी द्वारा नियुक्त प्रभारी चिकित्सा अधिकारी के स्तर से, होम आइसोलेशन रोगी के रिपीट टेस्ट सैंपल नतीजे, सामान्य शारीरिक स्थिति व अन्य के अनुसार, कोविड-19 पॉजिटिव रोगी के कोविड मुक्त होने के संबंध में अनुशंसा, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी उदयपुर को प्रेषित की जाएगी. यहां से रोगी के कोविड मुक्ति के संबंध में अंतिम निर्णय लिया जाएगा.