एक तरफ देश है और दूसरी तरफ धर्म, ये कोरोना योद्धा निभा रहे दोहरा फर्ज

कोरोना के संक्रमण को रोकने के लिए देशभर में कोरोना वारियर्स अपनी अहम भूमिका निभा रहे हैं.

एक तरफ देश है और दूसरी तरफ धर्म, ये कोरोना योद्धा निभा रहे दोहरा फर्ज
प्रतीकात्मक तस्वीर

हनुमान तंवर, नागौर: कोरोना (Coronavirus) के संक्रमण को रोकने के लिए देशभर में कोरोना वारियर्स अपनी अहम भूमिका निभा रहे हैं. चाहे प्रशासन हो चिकित्साकर्मी हो या पुलिसकर्मी हो हर कोई कोरोना के खिलाफ इस जंग में अपनी अहम भूमिका निभा रहे हैं, लेकिन इस्लाम को मानने वाले कोरोना योद्धा अभी दोहरा फर्ज निभा रहे हैं. पहला फर्ज अपने देश के प्रति और दूसरा फर्ज़ धर्म के प्रति.

इन कोरोना योद्धाओं की मानें तो इस्लाम ही हमें शिक्षा देता है कि देशहित से बड़ा दुनिया मे कोई फ़र्ज़ नहीं है. इस संकट के समय मे देश के लिए हम जी जान से जुटे हुए हैं और पूरी ईमानदारी से अपना यह फ़र्ज़ निभाना हमारा धर्म है, लेकिन रमज़ान के मुकद्दस महीने में रोजे हर मुसलमान पर फ़र्ज़ हैं और हम यह फ़र्ज़ भी उतनी ही ईमानदारी से निभा रहे हैं.

इस चिलचिलाती धूप और गर्मी के मौसम में जब आम इंसान एक मिनट भी प्यासा नहीं रह सकता ऐसे समय मे रोजे करते हुए साथ में अपनी ड्यूटी भी करना अपने आप में दो-दो कड़ी परीक्षाओं से गुजरना है, लेकिन यह लोग पुलिसकर्मी के रूप में कड़ी धूप में खड़े होकर, कोरोना संभावितों की जांच करके और हॉस्पिटल की ओपीडी को मैनेज करके भी रोजे रख रहे हैं.

दोहरा फ़र्ज़ निभा रहे इन कोरोना योद्धाओं का जज़्बा वाकई क़ाबिले तारीफ है और इस जज़्बे को ज़ी मीडिया सलाम करता है.

 

ये भी पढ़ें: निजी कंपनियां नहीं मान रहीं PM की बात, बिना नोटिस निकालने का सिलसिला जारी