जयपुर: नई स्वास्थ्य नीति के जरिए गहलोत सरकार जनता को देगी यह सौगात...

राजस्थान में गहलोत सरकार अपने कार्यकाल का 1 साल पूरा होने के अवसर पर प्रदेश के नागरिकों को स्वास्थ्य से जुड़ा एक बेहतर तोहफा देने जा रही है.

जयपुर: नई स्वास्थ्य नीति के जरिए गहलोत सरकार जनता को देगी यह सौगात...
17 दिसंबर से राजस्थान में निरोगी राजस्थान अभियान शुरू किया जाएगा.

जयपुर: राजस्थान में गहलोत सरकार प्रदेश के नागरिकों के स्वास्थ्य को लेकर बेहद गंभीर नजर आ रही है. गहलोत सरकार अपनी पहली वर्षगांठ 17 दिसंबर पर प्रदेश को नई स्वास्थ्य नीति और निरोगी राजस्थान अभियान की बड़ी सौगात देने जा रही है. नई स्वास्थ्य नीति और इस अभियान के जरिए प्रदेश के नागरिकों के बेहतर स्वास्थ्य के लिए विशेष योजनाएं चलाई जाएंगी.

राजस्थान में गहलोत सरकार अपने कार्यकाल का 1 साल पूरा होने के अवसर पर प्रदेश के नागरिकों को स्वास्थ्य से जुड़ा एक बेहतर तोहफा देने जा रही है. गहलोत सरकार राजस्थान में निरोगी राजस्थान स्कीम लागू करने जा रही है. 17 दिसंबर से राजस्थान में निरोगी राजस्थान अभियान शुरू किया जाएगा. इस अभियान के तहत बुजुर्गों के लिए हर मेडिकल कॉलेज में जिरिए ट्रिक डिपार्टमेंट खोला जाएगा. 

इसके माध्यम से प्राथमिकता के आधार पर बुजुर्गों के लिए फ्री स्वास्थ्य सेवा व जांच कार्यक्रम चलाए जाएंगे. अभियान के तहत एक वेबसाइट तैयार की जाएगी. जिसमें विभिन्न रोगों व जीवनशैली से जुड़ी स्वास्थ्य समस्याओं के बारे में विशेषज्ञों से सवाल पूछे जा सकेंगे. राज्य में 15 नए मेडिकल कॉलेज खोलने की स्वीकृति मिलने के बाद केवल 3 जिले ऐसे हैं जहां राजकीय मेडिकल कॉलेज स्वीकृत नहीं है इन तीन जिलों जालौर प्रतापगढ़ और राजसमंद में नए मेडिकल कॉलेज खोलने के प्रस्ताव भी केंद्र सरकार को भेजे गए हैं. इस अभियान की मॉनिटरिंग के लिए राज्य स्तरीय समिति और किरण के लिए जिला स्तर पर समितियों के गठन होगा.

निरोगी राजस्थान अभियान में राजस्थान के प्रत्येक स्कूल और सार्वजनिक संस्थाओं में हेल्थ एजुकेशन प्रोग्राम चलाए जाएंगे. अभियान के तहत स्कूली बच्चों को योजना का ब्रांडेड से बनाया जाएगा ताकि वह अपने घर परिवार और आसपास की लोगों को स्वास्थ्य को लेकर जागरूक कर सके. राजस्थान में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने अधिकारियों को नई स्वास्थ्य नीति बनाने के भी निर्देश दिए हैं. इसके लिए विशेषज्ञों की मदद से 15 दिनों के भीतर इसकी रूपरेखा तैयार की जाएगी.

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की मंशा राजस्थान के प्रत्येक नागरिक को बेहतर स्वास्थ्य लाभ देना है यही वजह है कि सीएम ने पिछले कार्यकाल में शुरू के की निशुल्क दवा और निशुल्क जांच योजना को इस कार्यकाल में विस्तार दिया है. सरकार आगामी विधानसभा सत्र में राइट टू हेल्थ कानून लागू करने जा रही है. लेकिन उससे पहले निश्चित तौर पर निरोगी राजस्थान अभियान प्रदेशवासियों के स्वास्थ्य को बेहतर बनाने में एक बड़ा माइलस्टोन साबित होगा.