close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

टोंक: हैकर ने एसडीएम को बनाया निशाना, फेसबुक अकाउंट किया हैक और फिर...

हैंकरों ने उनियारा के एसडीएम संतोष मीना और एक पत्रकार महेश त्रिपाठी को अपना निशाना बनाया और उनके शुभचिंतकों को बड़े ही शातिराना अंदाज में ठग लिया.

टोंक: हैकर ने एसडीएम को बनाया निशाना, फेसबुक अकाउंट किया हैक और फिर...
जब एक इंस्पेक्टर दोस्त के पास जब यह मैसेज पहुंचा तो इस पूरी ठगी का खुलासा हुआ.

पुरूषोत्तम जोशी/टोंक: अगर आप सोशल साइट्स पर अपनी व्यक्तिगत सूचना शेयर करने के आदी बन चुके है तो जरा सम्भल जाइए क्योंकि आपके फेसबुक फ्रेंड अब साइबर हैंकर के निशाने पर है. अब हैंकर आपके फेसबुक अकाउंट के जरिए आपके चहेतों को निशाना बना रहे है. आपके मोबाइल पर एक टैक्सट मैसेज आएगा और उसे खोलते ही आपका आईडी पासवर्ड पहुंच जाएगा सीधा हैंकर के हाथ में और फिर वो सब करेगा जो आप सोच भी नहीं सकते है.

टोंक जिले के उनियारा में हैकर ने एसडीएम और एक पत्रकार को अपना निशाना बनाया है. टोंक जिले में हैंकरों ने उनियारा के एसडीएम संतोष मीना और एक पत्रकार महेश त्रिपाठी को अपना निशाना बनाया और उनके शुभचिंतकों को बड़े ही शातिराना अंदाज में ठग लिया.

इस मामले में एक ही दिन में पत्रकार, एसडीएम और एक राजस्व अधिकारी को हैकर ने अपना निशाना बनाया. पत्रकार और एसडीएम ने तो थाने पहुंच रिपोर्ट दर्ज करवा दी. आपको हैरत होगी यह जानकर की एक एसडीएम की आईडी से जब रूपए खाते में डलवाने का इमरजेंसी मैसेज लोगों तक पहुंचा तो हर कोई अचंभित हो गया. एक दोस्त ने उस हैकर के बताए खाते में 15 हजार रूपए भी डलवा दिए. उसके साथ ही कई ओर लोगों तक हैकर का मैसेज पहुंचा.

वहीं जब एक इंस्पेक्टर दोस्त के पास जब यह मैसेज पहुंचा तो इस पूरी ठगी का खुलासा हुआ. अब पूरा मामला हुआ यूं कि हैकर ने फेसबुक अकाउंट हैक कर यूजर के दोस्तों को एक इमरजेंसी मैसेज भेजा. जिसमें कहा कि मै परेशानी में हूं. मैरे अकाउंट में जल्दी से 5 हजार रूपए जमा करवा दीजिए, जैसे ही फ्री हो जाउंगा आपकों लौटा दूंगा. बस फिर क्या था. 

एक के बाद एक दो लोगों ने तुरंत ही हैकर द्वारा दिए गए अकाउंट नम्बर में रूपए डाल दिए. फिर क्या वहीं सिर पीटना बाकी रह गया. इंस्पेक्टर दोस्त ने तुरंत ही एसडीएम को सूचना दी तो एसडीएम हरकत में आए. पुलिस थाने में रिपोर्ट दर्ज करवा आईडी को ब्लॉक करवा गया. उधर पत्रकार महेश शर्मा ने बताया कि उनकी फेसबुक अकाउंट को हैकर ने हैक कर उनके फ्रेंड्स को एक इमरजेंसी मैसेज भेजा. उस मैसेज को पढ़ कर दो साथियों अरूण शर्मा, विनोद चौधरी ने उस हैंकर द्वारा दिए गए अकाउंट नम्बर में हजारों रूपए भी डाल दिए गए. जब रूपए डालने के बाद इन दोनों व्यक्तियों ने महेश त्रिपाठी को फोन कर के बताया कि हमने आपके खाते में रूपए डाल दिए. बस इतना सुनते ही महेश त्रिपाठी ने तुरंत उनियारा पुलिस थाने में शिकायत दर्ज करवाई. अरूण शर्मा ने महेश त्रिपाठी के साथ थाने पहुंच रूपये खाते में डलवाने की शिकायत दी.

ऐसा नहीं है कि इनके पुलिस थाने में मामला दर्ज करवाने के बाद हैंकरों पर नकेल कस गई हो. उसके बाद भी हैकर्स लगातार सक्रिय है. और पुलिस की साइबर सेल पूरी तरह से सुस्त है. हमारी तो सलाह यही है कि आप सतर्क रहे और किसी भी तरह की ठगी का आभास होने पर तुरंत पुलिस को सूचना दें.