टोंक पुलिस ने दिखाई तत्परता, महज़ 5 घंटों में बालिका को चाइल्ड ट्रैफिकिंग गिरोह से बचाया

टोंक जिले के सोप थाना क्षेत्र से बीते दिन अगवा की गई 7 वर्षीय नाबालिग बालिका के प्रकरण में पुलिस ने तत्परता दिखाते हुए प्रकरण दर्ज होने के महज़ 5 घण्टों के भीतर ही आरोपी को गिरफ्तार कर अपह्रत बालिका को भी दस्तयाब कर बड़ी कामयाबी हासिल की है.

टोंक पुलिस ने दिखाई तत्परता, महज़ 5 घंटों में बालिका को चाइल्ड ट्रैफिकिंग गिरोह से बचाया
पुलिस ने आरोपी को अलवर के पास मालाखेड़ा से रोडवेज़ बस से गिरफ्तार किया है.

टोंक: राजस्थान के टोंक जिले के सोप थाना क्षेत्र से बीते दिन अगवा की गई 7 वर्षीय नाबालिग बालिका के प्रकरण में पुलिस ने तत्परता दिखाते हुए प्रकरण दर्ज होने के महज़ 5 घण्टों के भीतर ही आरोपी को गिरफ्तार कर अपह्रत बालिका को भी दस्तयाब कर बड़ी कामयाबी हासिल की है.

ये भी पढ़ें: कल से शुरू होंगे राजस्थान पुलिस कांस्टेबल के एग्जाम, अभ्यर्थी रखें इन बातों का ध्यान

पुलिस ने आरोपी को अलवर के पास मालाखेड़ा से रोडवेज़ बस से गिरफ्तार किया है. पुलिस का अंदेशा है कि गिरफ्तार आरोपी सोप गांव निवासी रामअवतार बैरवा के तार राष्ट्रीय स्तर के किसी बड़े चाइल्ड ट्रेफिकिंग गिरोह से जुड़े हुए हैं. पुलिस को गिरफ्तार आरोपी के पास से विभिन्न प्रदेशों के कई संदिग्ध मोबाइल फोन नम्बर्स भी मिले हैं. पुलिस इन नम्बर्स को अपनी टेक्निकल टीम के साथ मिलकर खंगालने में जुटी हुई है.

मामले के खुलासे को लेकर आज हुई प्रेसवार्ता में टोंक पुलिस कप्तान ओमप्रकाश ने बताया कि कल शाम क़रीब 5 बजे सोप निवासी एक परिजनों ने 7 वर्षीय बालिका के अपहरण की नामज़द एफआईआर दर्ज कराई थी. प्रकरण दर्ज होते ही पुलिस ने नामज़द आरोपी रामावतार की तलाश के लिए टीमें गठित कर दी थी.  साथ ही पुलिस ने आरोपी की जल्द से जल्द धरपकड़ के लिए पुलिस के सायबर एक्सपर्ट्स की भी मदद लेते हुए उसकी पहचान और फ़ोटो ज़िले के कई थानों में पहुंचा दिए थे.

पुलिस को यह भी जानकारी मिली थी कि आरोपी अपनी बाइक से ही नाबालिग़ को बहला फुसलाकर कर अगवा कर ले गया है, लेकिन शातिर आरोपी ने पुलिस से बचने के लिए टोंक सीमा पर ही अपनी बाइक को बीच रास्ते मे छोड़कर दिल्ली डिपो की रोडवेज़ बस पकड़ ली और नाबालिग को लेकर रोडवेज़ बस से ही नाबालिग़ को लेकर उत्तर प्रदेश के रास्ते के लिए निकल गया, लेकिन इसी बीच आरोपी के धरपकड़ में जुटी टोंक पुलिस को आरोपी की लोकेशन ट्रेस हुई और पुलिस की टीमों ने रोडवेज़ बस का पीछा करते हुए अलवर के मालाखेड़ा के पास ही गिरफ्तार कर लिया और अपह्रत बालिका को भी दस्तयाब कर लिया. 

अगर पुलिस मामले में ज़रा भी देरी कर देती तो आरोपी नाबालिग को लेकर ऊतर प्रदेश निकल जाता. पुलिस का कहना है कि आरोपी रामावतार ने चन्द पैसों की लालच में नाबालिग का सौदा भी कर दिया था. फिलहाल पुलिस दस्तयाब की गई नाबालिग का मेडिकल मुआयना कराने के साथ ही गिरफ्तार आरोपी को रिमांड पर लेकर गिरोह के अन्य लोगो की धरपकड के लिए गहन पूछताछ में जुट गई है.

ये भी पढ़ें: अनलॉक के बाद भी नहीं ठीक हो पाई हवाई सेवाएं, सैलानियों की बढ़ी परेशानी