close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

टोंक: तालाब में पानी के रिसाव से दहशत में ग्रामीण, प्रशासन बेखबर

टोंक जिले के देवली उपखण्ड की चांदली पंचायत के तालाब में रिसाव के चलते ग्रामीण को दहशत में जीवन यापन करना पड़ रहा है. 

टोंक: तालाब में पानी के रिसाव से दहशत में ग्रामीण, प्रशासन बेखबर
तालाब की पाल के एक ओर लगभग 4 फिट चौड़ा गड्ढा हो गया है.

पुरूषोत्त्म जोशी/टोंक: मुसीबत और मौत, कहते की किसी से पूछकर नहीं आती है, लेकिन आज हम आपको ऐसी कहानी बताएंगे कि जहां एक मुसीबत लगातार मौत का चेलेंज कर रही है, लेकिन कोई उसका समाधान खोज नहीं पा रहा है. यह ऐसी मुसीबत भी नहीं है कि किसी के पास इसका समाधान नहीं है. बस समाधान निकालने की कोई कोशिश नहीं कर रहा है, जिसके चलते हालात यह है कि एक पूरा गांव मौत की दशहत में जिंदगी जी रहा है. 

टोंक जिले के देवली उपखण्ड की चांदली पंचायत के तालाब में रिसाव के चलते ग्रामीण को दहशत में जीवन यापन करना पड़ रहा है. देवली उपखंड के चांदली ग्राम पंचायत में स्थित तालाब की पाल में रिसाव होने से ग्रामीणों में हड़कंप मच गया है. तालाब की पाल के एक ओर लगभग 4 फिट चौड़ा गड्ढा हो गया है जिससे लगातार पानी का रिसाव हो रहा है. 

वहीं ग्रामीणों द्वारा प्रशासन को सूचित किए जाने के बाद भी प्रशासन का कोई नुमाइंदा मौके पर नहीं पहुंचा है जिससे ग्रामीणों में आक्रोश व्याप्त है. लगातार हो रही बारिश व पानी के लगातार रिसाव और गड्ढे के चौड़े होने से ग्रामीणों में भय व्याप्त है. ग्रामीणों ने बताया की अगर जल्दी ही पानी के रिसाव को बंद नहीं किया गया और गड्ढे को भरा नहीं गया तो पाल टूटने का खतरा बना हुआ है. अगर पाल टूटती है तो आधा दर्जन गांव में पानी घुसने से बड़ी जान माल की हानि हो सकती है. चांदली तालाब की भराव क्षमता लगभग 11 फीट से है जिससे तालाब में पानी लबालब भरा हुआ है और चादर चल रही है.

ग्रामीण में डर व्याप्त है, लेकिन ग्रामीणों की दहशत का कोई समाधान नहीं कर रहा है. सवाल यह उठता है कि आखिर जिले के प्रशासन का आपदा प्रबंधन किस वातानुकुलित कमरें में रखा हुआ  है. आखिर कब प्रशासन अपने इंतजामों का फायदा आमजन को देगा. फिलहाल उम्मीद अब इसी पर है कि जी राजस्थान न्यूज के सामाजिक सरोकार की इस खबर पर सूबे के मुख्यमंत्री गम्भीरता दिखाएंगे और ग्रामीणों को राहत मिलेगी.