बारां: ट्रैक्टर मजदूर यूनियन ने प्रशासन पर लगाया बड़ा आरोप, प्रदर्शन की दी चेतावनी

दिलावर ने कहा कि अवैध खनन का नाम लेकर मजदूरों को मिट्टी पत्थर और रेती लाने पर पाबंदी लगा रखी है जिससे अटरू के लगभग 2000 मजदूर बेरोजगार हो गए हैं.  

बारां: ट्रैक्टर मजदूर यूनियन ने प्रशासन पर लगाया बड़ा आरोप, प्रदर्शन की दी चेतावनी
ट्रैक्टर पर चल रहे मजदूरों को काम बंद हो गया है.

राम मेहता/बारां: अटरू के गोदावरी धाम हनुमान जी मंदिर पर ट्रैक्टर मजदूर यूनियन की बैठक संपन्न हुई. बैठक के बाद ट्रैक्टर मजदूर यूनियन के अध्यक्ष कृष्ण मुरारी दिलावर ने बताया कि काफी दिनों से अवैध खनन के नाम पर ट्रैक्टर मालिक व मजदूरों को प्रशासन द्वारा परेशान किया जा रहा है.

उन्होंने कहा कि अवैध खनन का नाम लेकर मजदूरों को मिट्टी पत्थर और रेती लाने पर पाबंदी लगा रखी है जिससे अटरू के लगभग 2000 मजदूर बेरोजगार हो गए हैं. उनके रोजी-रोटी छीन गई और भूखे मरने की नौबत आ गई है. ट्रैक्टर मजदूर यूनियन की बैठक में निर्णय लिया गया की प्रशासनिक व पुलिस अधिकारियों से बात कर मजदूर आदमी की रोजी रोटी का इंतजाम करें और ट्रैक्टर मजदूरों को काम करने दें.

दिलावर ने कहा कि अगर ट्रैक्टर मजदूरों को रोका गया तो 21 सितंबर को अटरू तहसील के सभी ट्रैक्टर मालिक मजदूरों सहित लगभग 300 ट्रैक्टरों के साथ जंगी प्रदर्शन करेंगे. एक तरफ तो नरेगा योजना में काम नहीं मिल रहा है तो दूसरी तरफ ट्रैक्टर पर चल रहे मजदूरों को काम बंद हो गया है.

उन्होंने कहा कि मजदूर रोजी-रोटी के लिए तरस रहा है. भूखे मरने की नौबत आ रही है. रोजगार मिल नहीं रहा है. ट्रैक्टरों को सुचारु रूप से चालू रखने के लिए उप जिला कलेक्टर अटरू कार्यालय पर प्रदर्शन कर ज्ञापन भी दिया गया.