जयपुर: सड़क हादसे को रोकने के लिए 40 ब्लैक स्पॉट चिन्हित, अधिक पुलिसकर्मियों की होगी तैनाती

जानकारी के अनुसार, अंधे मोड़, संकरे रास्ते और विपरीत दिशा से मिलने वाले मार्गों पर चिन्हित ब्लैक स्पॉट को लेकर जयपुर ट्रैफिक पुलिस की ओर से सर्वे करवाकर एक रिपोर्ट तैयार की जा रही है.

जयपुर: सड़क हादसे को रोकने के लिए 40 ब्लैक स्पॉट चिन्हित, अधिक पुलिसकर्मियों की होगी तैनाती
जयपुर ट्रैफिक पुलिस के लिए एक बड़ी चुनौती बना हुआ है कि, सड़क हादसों को कैसे रोका जाए.

शरद पुरोहित/जयपुर: राजधानी जयपुर में अनलॉक का दूसरा फेज शुरु हो चुका है. वहीं, अनलॉक की प्रक्रिया के दौरान जयपुर की सड़कों पर ट्रैफिक भी पहले की तरह आने लगा है. ऐसे में जयपुर ट्रैफिक पुलिस के लिए एक बड़ी चुनौती बना हुआ है कि, सड़क हादसों को कैसे रोका जाए.

हालांकि, ट्रैफिक पुलिस सड़क हादसों को कम करने के लिए पिछले कुछ दिन से प्रयास कर रही है और इसी क्रम में पुलिस ने अब शहर के ब्लैक स्पॉट चौराहों को चिन्हित किया है. शहर में दुर्घटनाओं के मामलों में पुलिस मुख्यालय तक के अधिकारियों की नींद उड़ा रखी थी.

इसके बाद कोरोना काल की वजह से लॉकडाउन (Lockdown) लग गया और फिर दुर्घटनाएं भी रुक गई. लेकिन अनलॉक के पहले फेज के दौरान शहर में दुर्घटनाओं के मामले फिर से सामने आने लगे. दुर्घटनाओं में शहर के कई लोगों की जान गई तो, पुलिस अधिकारियों की एक बार फिर से नींद उड़ी.

अब अनलॉक के दूसरे फेज में दुर्घटनाओं पर लगाम लगाने के लिए, पुलिस ने कई तरह के तैयारियां की, जिसके तहत एक स्टडी रिपोर्ट तैयार करवाई गई तो वहीं दूसरी ओर पुलिस ने जयपुर के ब्लैक स्पॉट चौराहों को भी चिन्हित करने का काम किया.

जानकारी के अनुसार, अंधे मोड़, संकरे रास्ते और विपरीत दिशा से मिलने वाले मार्गों पर चिन्हित ब्लैक स्पॉट को लेकर जयपुर ट्रैफिक पुलिस की ओर से सर्वे करवाकर एक रिपोर्ट तैयार की जा रही है. बढ़ते हादसों से चिंतित अधिकारी आंकड़ों में हो रही वृद्धि की वजह जानने के लिए सक्रिय हो गए हैं.

ब्लैक स्पॉट की वजह को लेकर तकनीकी पड़ताल के साथ, सुधार के संबंध में रिपोर्ट प्रस्तुत कर जेडीए (JDA) के साथ बातचीच कर इनमें सुधार करवाया जा रहा है. जयपुर एडिशनल कमिश्नर ट्रैफिक राहुल प्रकाश ने बताया कि, जयपुर शहर के 40 ब्लैक स्पॉट चौराहे को चिन्हित किया है.

इन चौराहे पर पुलिस जेडीए से मीटिंग कर बैरिकेड लगा रही है. वहीं, सीसीटीवी कैमरे भी लगाए जा रहे हैं. इन चौराहे पर सड़क हादसों को रोकने के लिए पुलिस पूरी कोशिश में जुटी हुई है. ब्लैक स्पॉट चौराहे में जेडीए सर्किल, ओटीएस चौराहा, 22 गोदाम सर्किल, सहित ऐसे कई चौराहे शामिल है. जहां सबसे ज्यादा हादसे होते हैं.

पुलिस इन चौराहों पर यातायात पुलिसकर्मी की भी तैनाती बड़ी संख्या में करेगी. बता दें कि, राजस्थान में हर साल सड़क हादसों में करीब 10 हजार से अधिक लोगों की जान चली जाती है. इसे रोकना कई सालों से पुलिस के लिए चुनौती बना हुआ है.