उदयपुर: कोरोना संकट के बीच इंसानियत की तस्वीर आई सामने, इस तरह कर रहे लोगों की मदद

घर पर रहने के दौरान सरकारी स्कूल की अध्यापिका अपने परिवारजनों के साथ मिलकर कोरोना वायरस से निपटने के लिए निःशुल्क कपड़े के मास्क बनाने में जुटी हुई है.

उदयपुर: कोरोना संकट के बीच इंसानियत की तस्वीर आई सामने, इस तरह कर रहे लोगों की मदद
वह 100 से अधिक मास्क बनाकर जरूरतमदं लोगों को बांट चुकी है.

धीरज रावल, उदयपुर: पूरे देश और दुनिया में इन दिनों भयावह कोरोना वायरस (Coronavirus) के संक्रमण से बचने को लेकर जद्दोजहद का दौर जारी है. इसी कड़ी में कुछ ऐसे बिरले लोग भी हैं, जो आज के इस भयानक दौर में अपनी ड्यूटी के अलावा असहाय और जरूरतमद लोगों के प्रति सच्ची श्रद्धा से अपने कर्तव्य का पालन भी कर रहे है.

कोरोना वायरस के संक्रमण से बचने के लिए लगातार प्रयास किए जा रहे हैं. सरकारी प्रयासों की झलक तो आपने कई किस्से सुने और पढ़े होंगे, लेकिन आज हम आपको इंसानियत से लबरेज ऐसी कुछ ऐसी कहानी से आपको रूबरू करवाएंगे जो कि समाज के असहाय लोगों को राहत प्रदान कर रही है. सरकारी स्कूल की अध्यापिका शोभा राणावत उदयपुर जिले के कुण्डाल प्राइमरी स्कूल में बच्चों को शिक्षा देती हैं. लेकिन लॉक डाउन के बाद वह इन दिनों घर पर ही हैं.

घर पर रहने के दौरान शोभा राणावत अपने परिवारजनों के साथ मिलकर कोरोना वायरस से निपटने के लिए निःशुल्क कपड़े के मास्क बनाने में जुटी हुई है. राणावत अब तक 100 से अधिक मास्क बनाकर जरूरतमदं लोगों को बांट चुकी है. राणावत द्वारा अपने खर्च पर किए जा रहे इस कार्य में उनके परिवार के लोग भी खूब हाथ बटाकर कोरोना वायरस से दो-दो हाथ कर रहे हैं.

कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव से उत्पन्न हो रही असुविधाओं से जनता को राहत देने के लिए लेकसिटी के बिरले लोगों की फेहरिस्त काफी लंबी है. इस कठिन दौर में कई लोग है जो असहाय और जरूरतमंद लोगों की सेवा करते हुए दिखाई दे रहे हैं.

वहीं, उदयपुर हिरणमगरी थाने के इंचार्ज डॉ हनुवंत सिंह राजपुरोहित दिनभर सरकार द्वारा जारी किए गए लॉकडाउन (Lockdown) के निर्णय की पालना कराने में गुजारते हैं. वहीं, शाम को पहुंचते है जरूरतमंदों लोगों के पास भोजन के पैकेट वितरित करने के लिए. सीआई साहब अपनी कॉलोनी और परिवारजनों की मदद से रोजाना करीब 500 भोजन के पैकेट्स तैयार करवाकर बांटते हैं.

ये पैकेट्स बीमार, असहाय, गरीब, जरूरतमंद और विशेषकर उन लोगों को दिए जा रहे हैं जनके सिर पर छत नसीब नहीं है. सीआई हनुवंत सिंह ने अपने पिंक पर्ल में स्थित अपार्टमेंट के नीचे ही रोटी बनाने की मशीन सहित अन्य जरूरी सामग्री को रखा है.

बता दें कि, वैश्विक महामारी घोषित हो चुके कोरोना वायरस से बचने के लिए युद्व स्तर पर लगातार प्रयास जारी है. यही नहीं, सरकारी महकमों से जुड़े शोभा राणावत और डॉ हनुवंत सिंह भी कठिनाई के इस दौर में समाजसेवा कर लोगों को राहत पहुचाने की कोशिश कर रहे हैं. ऐसे में दोनो ही समाजसेवियों द्वारा इस सराहनीय पहल को कर समाज में एक अच्छा और बेहतरीन उदाहरण पेश करने की कोशिश की गई है.