टॉम एंड जेरी-छोटा भीम कोविड पीड़ित बच्चों का बहलाएंगे मन, अस्पताल को दिया गया नर्सरी स्कूल जैसा लुक

कोरोना की अगर तीसरी लहर में बच्चे अगर यहां पर भर्ती हुए तो इन बच्चों को घर व स्कूल जेसा पूरा वातावरण मिलेगा, जिससे उन्हें ज्यादा पेनिक भी नहीं होना पड़ेगा. 

टॉम एंड जेरी-छोटा भीम कोविड पीड़ित बच्चों का बहलाएंगे मन, अस्पताल को दिया गया नर्सरी स्कूल जैसा लुक
टॉम एंड जेरी-छोटा भीम कोविड पीड़ित बच्चों का बहलाएंगे मन. (प्रतीकाात्मक तस्वीर)

Banswara: बांसवाडा जिले के सबसे बड़े महात्मा गांधी चिकित्सालय (Mahatma Gandhi Hospital) में कोरोना संक्रमित मासूम बच्चों का टॉम एंड जेरी (Tom & Jerry), छोटा भीम (Chota Bheem) और मिक्की माउस (Micky Mouse) मन बहलाएंगे. कोरोना की तीसरी लहर की चपेट में बच्चे ज्यादा आने की आशंका पर चिकित्सालय में बच्चों के लिए बनाए कोविड पीडियाट्रिक वार्ड (Covid Pediatric Ward) का लुक किसी स्कूल की नर्सरी जैसा दिया गया है.

बच्चों के लिए यह अभिनव प्रयोग जिला कलेक्ट्रर अंकित कुमार सिंह की पहल पर महात्मा गांधी चिकित्सालय प्रशासन करवाकर वार्ड को बच्चों के मनमाफिक वातावरण बनाने में जुट गया है. चिकित्सालय प्रसासन ने बच्चों के लिए 100 बेड का वार्ड बनाया है, जिसमें वार्ड की दिवारों व खंभों पर मिकी माउस, शीन चैन, डोरेमान, टॉम एंड जेरी, छोटा भीम सरीखें कई कार्टून कैरेक्टर की वाल पैंटिग्स बनाई गई है.

ये भी पढ़ें-जमीनी स्तर पर जागरूकता लाकर टीका के प्रति भ्रांतियां दूर करने की जरूरत: गहलोत

 

कोरोना की अगर तीसरी लहर में बच्चे अगर यहां पर भर्ती हुए तो इन बच्चों को घर व स्कूल जेसा पूरा वातावरण मिलेगा, जिससे उन्हें ज्यादा पेनिक भी नहीं होना पड़ेगा. पीएसओ डॉ. रवि उपाध्याय ने बताया की हमने बच्चों के लिए यह वार्ड बनाया है, जिसमें बच्चे अगर कोविड संक्रमित होते हैं और उन्हे 14 दिन भर्ती रहना पड़ता है तो वे दवाओं व इंजेक्शन देखकर डर जाते हैं. उनका डर भगाने और माहोल को खुशनुमा बनाने के लिए हमने यह वार्ड में पैटिंग बनवाई है.

वहीं, चिकित्सालय की हेल्थ मैनेजर डॉ. वनिता त्रिवेदी ने बताया की हमने डीएम के निर्देशन में कोरोना की तीसरी लहर के आने से पहले चिकित्सालय में 100 बेड का वार्ड बना दिया है. इन सभी वार्ड में ऑक्सीजन सहित सभी सुविधाएं उपलब्ध हैं. वहीं, बच्चों के लिए टीवी का भी इंताजाम किया जाएगा. बच्चो का माहोल बनाने के लिए उनके पसंदीता कार्टून की पैंटिंग भी हमने दीवारों पर बनवाई है, जिससे बच्चे इलाज भी खुशी खुशी करवा सकें.

ये भी पढ़ें-ढाई साल बाद भी अधूरा Gehlot Government का जवाबदेही कानून लाने का वादा, नहीं हुआ लागू

 

(इनपुट-अजय ओझा)