Chittorgarh में तहसीलदार-थानाधिकारी ने पेश की ऐसी मिसाल, सब बोले- अधिकारी हों तो ऐसे

कोरोना प्रोटोकॉल के तहत अंतिम संस्कार करने के नियम को लेकर जब महिला की मौत पर परिजन दूर दिखे तो थाना अधिकारी ने तहसीलदार के साथ मिलकर खुद पीपीई किट पहन शव को पैक करने का कार्य किया.

Chittorgarh में तहसीलदार-थानाधिकारी ने पेश की ऐसी मिसाल, सब बोले- अधिकारी हों तो ऐसे
दोनों अधिकारियों ने मानवता का परिचय देकर एक उदाहरण प्रस्तुत किया.

Chittorgarh: जिले के कपासन उपखंड नगर पालिका क्षेत्र में होम आइसोलेशन (Home Isolation) में रह रही एक महिला की मौत के बाद दो तस्वीरें सामने आई हैं, जिनमें एक लापरवाही की पोल खोल रही है तो दूसरी मानवीयता का बड़ा उदाहरण बन रही है.

यह भी पढ़ें- Chittorgarh News : विजय सिंह ने जन जागरूकता और पशु-पक्षियों के नाम कर दिया अपना जीवन

एक महिला की मौत के बाद नगर पालिका की लापरवाही और मेडिकल विभाग के नियमों के हवाले से 2 घंटे कोरोना संक्रमित का शव उसके घर में पड़ा रहा, तब तहसीलदार मोकम सिंह (Mokam Singh) और थाना अधिकारी हिमांशु सिंह (Himanshu Singh) ने मानवीय दृष्टिकोण का परिचय देते हुए जो पहले की है, वह अनुकरणीय है.

यह भी पढ़ें- Chittorgarh: लॉकडाउन की भनक से सड़कों पर दिखी भीड़, कोविड नियमों का बनाया 'मजाक'

कोरोना प्रोटोकॉल के तहत अंतिम संस्कार करने के नियम को लेकर जब महिला की मौत पर परिजन दूर दिखे तो थाना अधिकारी ने तहसीलदार के साथ मिलकर खुद पीपीई किट पहन शव को पैक करने का कार्य किया.

क्या है पूरा माजरा
दरअसल, आज सुबह 10 बजे नगर पालिका क्षेत्र में कोरोना से संक्रमित एक महिला की मौत हो गई. मौत की सूचना मिलने पर थाना अधिकारी हिमांशु सिंह और तहसीलदार मोकम सिंह मौके पर पहुंचे. दोनों अधिकारियों ने कोरोना से हुई मौत के चलते प्रोटोकॉल के तहत शव के प्रबंधन के लिए पहले मेडिकल विभाग को कॉल किया तो उनका कहना था कि आइसोलेशन में जब व्यक्ति अपने घर में होता है तो उसके शव प्रबंधन की जिम्मेदारी मेडिकल विभाग की नहीं है वहीं जब दूसरी ओर नगर पालिका में संपर्क किया गया तो अधिशासी अभियंता ने फोन ही नहीं उठाया.

मानवता का दिया परिचय
ऐसे में दोनों अधिकारियों थाना अधिकारी हिमांशु सिंह एवं तहसीलदार मोकम सिंह ने पीपी किट मंगाकर पहना और पुलिसकर्मियों के साथ प्रबंधन में जुट गए. दोनों अधिकारियों ने जहां मानवता का परिचय देकर एक उदाहरण प्रस्तुत किया है, वहीं, नियमों की आड़ लेकर चिकित्सा विभाग और नगर पालिका ने लापरवाही का परिचय दिया है, ऐसे हालातों में जहां प्रदेश की सरकार लगातार लोगों को राहत देने की कोशिश में जुटी हुई है. फिर भी लापरवाह लोगों के हालात अभी जस की तस बनी हुई है लेकिन दोनों अधिकारियों की मान्यता दृष्टिकोण अपनाते हुए की गई पहल की चर्चा कस्बे में हर एक जुबान पर है.

Reporter- Deepak Vyas