close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

7 देशों से आए 24 विदेशी मेहमान बदल रहे हैं एक गांव की तस्वीर, 5000 किसानों को होगा सीधा फायदा

विदेशी मेहमान तीन दिनों से सुबह से शाम तक दिन भर में करीब 6 से 7 घंटे तक श्रमदान करते हैं

7 देशों से आए 24 विदेशी मेहमान बदल रहे हैं एक गांव की तस्वीर, 5000 किसानों को होगा सीधा फायदा
दुनिया के 7 देशों से आए 24 मेहमान हमारे लिए जल संचयन के लिए श्रमदान कर चेक डेम तैयार कर रहे हैं

उदयपुर: उदयपुर जिले की सलूंबर तहसील क्षेत्र के अमलोदा गांव के निकट से गुजर रही सरणी नदी पर दुनिया के 7 देशों से आए 24 मेहमान हमारे लिए जल संचयन के लिए श्रमदान कर चेक डेम तैयार कर रहे हैं. जानकारी के मुताबिक ये विदेशी मेहमान तीन दिनों से सुबह से शाम तक दिन भर में करीब 6 से 7 घंटे तक श्रमदान करते हैं. इन विदेशी मेहमानों को श्रमदान करते देख स्थानीय लोगों में भी गजब का उत्साह देखने को मिल रहा है और रोजाना भारी संख्या में ग्रामीण भी डेम पर पहुंच कर श्रमदान कर रहे हैं.

5 हजार किसानों को साल भर मिलेगा पानी
जानकारी के मुताबिक सरणी नदी पर बनने वाले इस डेम से अमलोदा पंचायत के करीब आधा दर्जन गांवों के 5 हजार किसानों को सिंचाई सहित पेयजल के लिए साल भर पानी मिलेगा. आपको बता दें कि यह काम पीएचडी चेंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्रीज की सामाजिक संस्था पीएचडी रूरल फाउंडेशन और रोटरी क्लब फाउंडेशन के सहयोग से किया जा रहा है. इस काम की खास बात यही है कि इसमें श्रमदान और आर्थिक सहायता विदेशी मेहमानों द्वारा किया जा रहा है.

टेंट लगाकर जंगल में रह रहे हैं विदेशी मेहमान
बताया जा रहा है कि यह काम 'वर्षा का जल संचयन' के साथ-साथ 'जल है तो कल है' का संदेश देने के लिए किया जा रहा है. इस काम के लिए कनाडा, अमेरिका, ब्रिटेन, मैक्सिको, ऑस्ट्रेलिया जैसे देशों से विदेशी मेहमान भारत आए हैं. इस काम के लिए भारत आए और श्रमदान कर रहे विदेशी मेहमान जंगल में ही टेंट बना कर रह रहे हैं. जिस वजह से वे लोग स्थानीय लोगों के बीच आकर्षण का केंद्र भी बने हुए हैं.

विदशी मेहमानों के श्रमदान को देखकर स्थानीय लोग भी श्रमदान को आगे आए हैं. स्थानीय लोगों ने मेहमानों का जोरदार स्वागत भी किया है.