Covid-19: तीसरी लहर से लड़ने को तैयार है Rajsamand, जानें क्या-क्या हैं तैयारियां

जिला अस्पताल में मेडिसिन, सर्जन सहित सभी चिकित्सा विशेषज्ञ के डॉक्टरों एवं नर्सेज को यह प्रशिक्षण दिया जा रहा है. 

Covid-19: तीसरी लहर से लड़ने को तैयार है Rajsamand, जानें क्या-क्या हैं तैयारियां
प्रतीकात्मक तस्वीर.

Rajsamand: कोरोना (Corona) की तीसरी लहर अगस्त-सितंबर तक आने और सर्वाधिक बच्चों के लिए घातक होने की संभावना जताई जा रही है. ऐसे में राजसमंद जिले की बात करें, तो यहां आरके जिला चिकित्सालय में पीएमओ सहित 2 एवं नाथद्वारा अस्पताल में 1 शिशु रोग विशेषज्ञ हैं. 

यह भी पढ़ें- VIDEO: ​डायन बताकर महिला की हुई पिटाई, पीड़िता थाने पहुंच बोली- साहब! मैं ठीक हूं

ऐसी स्थिति में सिर्फ तीन डॉक्टरों के लिए पूरे जिले के बच्चों को संभालना मुश्किल ही नहीं, बल्कि असंभव है. इस पर जिला चिकित्सालय के प्रमुख चिकित्सा अधिकारी डॉ. ललित पुरोहित ने एक अनूठी पहल करते हुए जिला अस्पताल के सभी डॉक्टर और नर्सेज को बच्चों के उपचार को लेकर विशेष प्रशिक्षण की शुरुआत की है. 

यह भी पढ़ें- Rajsamand: मकान में निकला 12 फीट लंबा अजगर मची अफरा-तफरी, घरवालों के उड़ गए होश

इसके तहत जिला अस्पताल में मेडिसिन, सर्जन सहित सभी चिकित्सा विशेषज्ञ के डॉक्टरों एवं नर्सेज को यह प्रशिक्षण दिया जा रहा है. डेमो प्रदर्शन के माध्यम से बच्चों की केयर करने के साथ उपचार को लेकर प्रशिक्षित किया जा रहा है. बच्चों संबंधी सभी बीमारियों की जानकारी देते हुए कोरोना संबंधी लक्षण की पहचान करते हुए उनका किस तरह से उपचार किया जाए, उसके बारे में भी विस्तार से प्रशिक्षण दिया जा रहा है. 

इसके लिए जिला अस्पताल में प्रतिदिन विशेष प्रशिक्षण सत्र आयोजित किया जा रहा है. इसके तहत नियमित ड्यूटी के बाद प्रशिक्षण दिया जाएगा, ताकि कोरोना की तीसरी लहर में बच्चों को त्वरित उपचार दिया जा सकें.

एक नजर में जिले की स्थिति
4 लाख से ज्यादा बच्चें राजसमंद जिले में
2 शिशु रोग विशेषज्ञ जिला चिकित्सालय में
50 ऑक्सीजन बैड जिला अस्पताल में बनाए
10 आईसीयू बैड भी कर लिए तैयार
20 डॉक्टर को दे रहे बच्चों के इलाज की ट्रेनिंग
50 से ज्यादा नर्सेज को भी शिशु केयर का दिया जा रहा प्रशिक्षण

Reporter- Laxman Singh Rathor