Udaipur Mayor ने प्रदेश सरकार को लिखा लेटर, नेता प्रतिपक्ष के पद को जल्द भरने की मांग

उदयपुर शहर (Udaipur news) के राजनीतिक गलियारों में इन दिनों नगर निगम महापौर (Udaipur Mayor ) की ओर से प्रदेश सरकार को लिखा गया एक लेटर चर्चा का विषय बना हुआ है. 

Udaipur Mayor ने प्रदेश सरकार को लिखा लेटर, नेता प्रतिपक्ष के पद को जल्द भरने की मांग
फाइल फोटो

Udaipur : राजस्थान के उदयपुर शहर (Udaipur news) के राजनीतिक गलियारों में इन दिनों नगर निगम महापौर (Udaipur Mayor ) की ओर से प्रदेश सरकार को लिखा गया एक लेटर चर्चा का विषय बना हुआ है. जिसमें उन्होंने सरकार से निगम में नेता प्रतिपक्ष के पद को जल्द भरने की मांग की है, जिससे निगम के काम काज को सही ढंग से चलाया जा सके.

यह भी पढ़ें : कमजोर Monsoon के चलते Rajasthan में अकाल की आहट, औसत से 25 % कम बारिश दर्ज

उदयपुर नगर निगम (Udaipur Nagar Nigam) में भारतीय जनता पार्टी के छट्ठे बोर्ड ने अपने कार्यकाल के करीब पौने दो साल पूरे कर लिए हैं, लेकिन कांग्रेस पार्टी अब तक नगर निगम के नेता प्रतिपक्ष के नाम की घोषणा नहीं कर पाई है. दरअसल पार्टी में चल रहे अंत कलह और घुटबाजी के कारण पार्टी के सभी 20 पार्षदों में नेता प्रतिपक्ष के नाम पर सहमति नहीं बन पाई है. इस बीच महापौर जीएस टांक ने प्रदेश सरकार को निगम में नेता प्रतिपक्ष की घोषणा जल्द करने की मांग को लेकर एक पत्र लिखा है. 

महापौर टांक ने बताया कि नेता प्रतिपक्ष का पद खाली होने से प्रशासनिक बैठकों के आयोजन में समस्या आ रही थी. हालांकि  पिछले कई समय से वे इन बैठकों में कांग्रेस पार्टी में नेता प्रतिपक्ष की दावेदारी करने वाले तीनों पार्षदों को बुला रहे थे, लेकिन इन नामों पर कांग्रेस पार्षदों ने ही आपत्ति दर्ज करा दी. जिससे महापौर टांक की समस्या और बढ़ गई. कांग्रेसी पार्षदों के बीच विवाद में नहीं पड़ महापौर ने सरकार को ही पत्र लिखना उचित समजा.

निगम का काम व्यवस्थित रूप से हो इसके लिए महापौर जीएस टांक (Mayor GS Tank) ने प्रदेश सरकार को खत लिखा, लेकिन यह खत कांग्रेसी पार्षदों के साथ पार्टी के वरिष्ठ नेताओं को अखर रहा है. पूरे मामले पर प्रतिक्रिया देते हुए कांग्रेस शहर जिला इकाई के निवर्तमान अध्यक्ष गोपाल शर्मा ने महापौर टांक पर निशाना साधा. उन्होंने कहा कि महापौर को इस तरह का पत्र लिखने का कोई अधिकार नहीं है. हालांकि नेता प्रतिपक्ष के चयन में हो रही देरी के लिए उन्होंने प्रदेश नेतृत्व को जिम्मेदार ठहराया है.

बहरहाल नगर निगम के इतिहास में यह पहल मौका है जब नेता प्रतिपक्ष की कुर्सी को भरने के लिए निगम महापौर ने प्रदेश सरकार का खत लिखा हो. ऐसे में देखना दिलचस्प होगा कि जो काम को कांग्रेस पार्टी के नेता पौने दो साल में नहीं कर पाए क्या वह काम नगर निगम के महापौर का एक खत कर देगा

रिपोर्ट : अविनाश जगनावत

 

यह भी पढ़ें : Rajasthan में 2 अगस्त से नहीं खुलेंगे स्‍कूल! पांच मंत्रियों कमेटी करेगी तय करेगी नई तारीख