close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

टोंक: अलीगढ़ पंचायत समिति के खाली पदों पर नहीं हो रही नियुक्तियां, आलाधिकारी मौन

ग्रामीण विकास के जरुरी मानव संसाधन की कमी पंचायत समिति में दिख रही है. जिससे विकास कार्य काफी प्रभावित हो रहा है.

टोंक: अलीगढ़ पंचायत समिति के खाली पदों पर नहीं हो रही नियुक्तियां, आलाधिकारी मौन
ग्रामीण विकास से संबंधित कार्य निपटारे में समस्या आ रही है. (प्रतीकात्मक फोटो)

टोंक: जिले की अलीगढ़ पंचायत समिति पूरी तरह भगवान भरोसे हो चुकी है. ग्राम पंचायत में ग्राम रोजगार से लेकर प्रसार अधिकारी तक के कई पद सालों से रिक्त हैं. इसकी सूचना आलाधिकारी को मिलने के बावजूद अब तक कोई कदम नहीं उठाया गया है.

बताया जा रहा है कि विकास अधिकारी नंदलाल शर्मा ने इससे संबंधित सूचनाएं आलाधिकारियों को दी है. लेकिन महकमें के अफसर इसके लिए गंभीर नहीं हैं. पंचायत समिति में खाली पदों को भरने के लिए विकास अधिकारी कई बार चिठ्ठियां लिख चुके हैं.

विकास अधिकारी के भरोसे काम काज
पंचायत समिति का काम काज सिर्फ विकास अधिकारी के भरोसे चल रहा है. इस कारण विकास अधिकारी से आलाधिकारी नोटिस देकर सवाल जवाब भी कर रहे हैं. इस दौरान पंचायतराज विभाग ने विकास अधिकारी को 17 सीसी का नोटिस तक थमा दिया.

इतने पद हैं खाली
विभागीय सूत्रों के अनुसार, अलीगढ़ पंचायत समिति में पंचायत प्रसार अधिकारी के 8 पद स्वीकृत है. लेकिन महज एक 1 अधिकारी पदस्थापित है. जिसमें 33 ग्राम पंचायतों का काम काज इनके जिम्मे हैं. वही, कनिष्ठ अभियंता के 8 स्वीकृत पद रिक्त हैं. 

सूत्रों के अनुसार, कनिष्ठ सहायक एलडीसी के 14 पद स्वीकृत पदों पर 2 एलडीसी ही पदस्थापित है. जबकि 33 ग्राम पंचायतों में केवल 18 ग्राम विकास अधिकारी पदस्थापित है. जिनमें 12 से ज्यादा ग्राम विकास अधिकारियों के पास दो या दो से अधिक ग्राम पंचायतों के कार्यभार का जिम्मा है. ग्राम पंचायतों में कनिष्ठ सहायक के 66 स्वीकृत पदों में महज 21 ही कार्यरत हैं. 

लाइव टीवी देखें-:

आलाधिकारियों का नहीं है ध्यान
विकास अधिकारी नंदलाल शर्मा ने बताया कि अफसरों और महकमें के नोटिस के जवाब देते-देते थक गया. लेकिन आलाधिकारी का ध्यान ना तो जवाब पर है और ना ही ही पंचायत समिति में रिक्त पड़े पदों पर भर्तियों के मुद्दे पर. जिस कारण सरकार की योजनाओं को पूरा करने में कई समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है.