झालावाड़: आजादी के 70 वर्षों बाद भी गांव में सड़क नहीं, ग्रामीणों ने किया मतदान बहिष्कार

राजस्थान के झालावाड़ जिले के डग क्षेत्र के लाखा खेड़ी परमार गांव के ग्रामीणों ने आजादी के बाद से सड़क नहीं बनने के कारण नाराजगी जताते हुए मतदान बहिष्कार (Panchayati Raj Elections) का ऐलान किया था.

झालावाड़: आजादी के 70 वर्षों बाद भी गांव में सड़क नहीं, ग्रामीणों ने किया मतदान बहिष्कार
प्रतीकात्मक तस्वीर

झालावाड़: राजस्थान के झालावाड़ जिले के डग क्षेत्र के लाखा खेड़ी परमार गांव के ग्रामीणों ने आजादी के बाद से सड़क नहीं बनने के कारण नाराजगी जताते हुए मतदान बहिष्कार (Panchayati Raj Elections) का ऐलान किया था. लेकिन राजनेताओं तथा जनप्रतिनिधियों द्वारा समस्या का समाधान नहीं होने से नाराज ग्रामीणों ने आज मतदान के दिन गांव के बाहर 'पहले रोड फिर वोट' का बैनर लगा दिया और मतदान का पूर्णतया बहिष्कार कर दिया. 

गौरतलब है कि लाखा खेड़ी परमार गांव में 230 मतदाताओं की संख्या है. छोटी आबादी वाले गांव को आजादी के 70 वर्षों बाद भी डामर सड़क से नहीं जोड़ा जा सका. ऐसे में दोनों ही पार्टियों के प्रत्याशियों से ग्रामीणों में खासी नाराजगी है और आज प्रथम चरण के मतदान के दौरान लाखा खेड़ी परमार के 230 मतदाताओं ने मतदान का पूर्णता बहिष्कार कर दिया. प्रशासनिक अधिकारियों तथा पार्टी प्रत्याशियों की मान मनुहार के बाद भी ग्रामीण मतदान के लिए रजामंद नहीं हुए.

ये भी पढ़ें: राजस्थान में शुरू हुई कड़ाके की सर्दी, रात का तापमान 10 डिग्री से भी नीचे आया