राजस्थान: कोटा के इस गांव में मतदान बहिष्कार का ऐलान, चुनाव में नहीं देंगे वोट

आपको बता दें कि, राजस्थान की 25 लोकसभा सीटों पर दो चरणों में चुनाव होने जा रहा है.

राजस्थान: कोटा के इस गांव में मतदान बहिष्कार का ऐलान, चुनाव में नहीं देंगे वोट
ग्रामीणों ने जनप्रतिनिधि पर वादाखिलाफी का भी आरोप लगाया. (प्रतीकात्मक फोटो)

कोटा: कोटा जिले के मदनपुरा ओर सांगाहेड़ी ग्राम पंचायत इलाकों के ग्रामीणों ने लोकसभा चुनाव के दौरान वोट बहिष्कार का ऐलान किया है. स्थानीय सांसद से नाराज ग्रामीणों ने जिला मुख्यालय स्थित कलेक्ट्रेट में ग्रामीणों ने विरोध प्रदर्शन और नारेबाजी भी की. इस दौरान मौजूद प्रदर्शनकारियों ने अपने जनप्रतिनिधि पर वादाखिलाफी का भी आरोप लगाया.

मीडिया से बातचीत में ग्रामीणों ने कहा कि आजादी के इतने साल बीत जाने के बाद भी अब तक हमारे पंचायतों में सड़क निर्माण नहीं हुआ है. जिस कारण इस लोकसभा चुनाव के दौरान वो मतदान नहीं करेंगे. 

विकास का वादा रह गया कोरा
ग्रामीणों ने यह भी कहा कि चुनाव के पूर्व राजनीतिक दलों के उम्मीदवार स्थानीय ग्रामीणों से हर बार चुनाव जीतने के बाद विकास का वायदा तो करते हैं. लेकिन चुनाव जीतने के बाद जनप्रतिनिधियों को आम लोगों से किए वादा पूरा करने की सुध नहीं रहती. जिस कारण ग्रामीणों ने यह निर्णय लिया है.  

बाड़मेर और जैसलमेर के ग्रामीणों ने भी किया था ऐलान
इससे पहले भी राज्य के बाड़मेर और जैसलमेर के दो गांवों के लोगों ने बड़ा प्रदर्शन किया था. जिसमें ग्रामीणों ने बैनर लहराए कि विकास नहीं तो वोट नहीं, वोट मांगकर शर्मिंदा न करें. ग्रामीणों ने गांव में प्रदर्शन करते हुए लोकसभा चुनाव का बहिष्कार करने का ऐलान किया था. ग्रामीणों ने आरोप लगाया था कि आजादी के 70 साल बाद भी दोनों गांवो में ना तो बिजली पहुंची है और ना ही पानी. ऐसे में चुनावों में मतदान करने का कोई मायने नहीं है. ग्रामीणों ने अपने ज्ञापन में लिखा था कि गांवों में बिजली, पानी नहीं है इसलिए देश के लोकतंत्र के सबसे बड़े पर्व का बहिष्कार करने जा रहे हैं. 

आपको बता दें कि, राजस्थान की 25 लोकसभा सीटों पर दो चरणों में चुनाव होने जा रहा है. यहां 29 अप्रैल और 6 मई को चुनाव के दौरान राज्य के लोग मतदान करेंगे.