पानी की जीवन में बहुत अधिक आवश्यकता, इसका हो किफायती उपयोग: बीडी कल्ला

डॉ. बी डी कल्ला ने कहा कि, यह वक्त बड़ा मुश्किल भरा रहा है. इसमें बिजली, पेयजल, पुलिस, चिकित्सक, सफाई सहित सभी विभागों के कार्मिक कोरोना वारियर्स बनकर उभरे हैं.

पानी की जीवन में बहुत अधिक आवश्यकता, इसका हो किफायती उपयोग: बीडी कल्ला
बीडा कल्ला ने कहा आने वाले वक्त में राजस्थान सोलर पावर का हब बनेगा.

जयपुर: जी राजस्थान (Zee Rajasthan) ने बुधवार को ई-विमर्श (E- Vimarsh) कार्यक्रम का आयोजन किया. इस कार्यक्रम में राजस्थान के उर्जा और जलदाय मंत्री डॉक्टर बी डी कल्ला शामिल हुए. इस दौरान, मंत्री ने आने वाले समय में क्या होगी उर्जा और जलदाय विभाग की रणनीति और कैसे विभाग लॉकडाउन (Lockdown) के बाद की चुनौतियों से निपटेगा, इस पर विस्तार से बात की.  

'यह वक्त बड़ा मुश्किल भरा रहा'
डॉ. बी डी कल्ला ने कहा कि, यह वक्त बड़ा मुश्किल भरा रहा है. इसमें बिजली, पेयजल, पुलिस, चिकित्सक, सफाई सहित सभी विभागों के कार्मिक कोरोना वारियर्स (Corona Warriors) बनकर उभरे हैं. उन्होंने कहा कि, कठिन समय में रामगंज जैसे क्षेत्रों में भी बिजली और पेयजल शिकायतें दूर की गई. साथ ही, हमने 2 महीने के बिजली बिल को भी स्थगित किया.

50 यूनिट तक राहत प्रदान की गई
मंत्री ने कहा कि, किसानों, बीपीएल, कमजोर वर्ग और 50 यूनिट तक उपभोक्ता वालों को राहत प्रदान की गई. साथ ही, बिल जमा करवाने वालों को 5 फीसदी बिजली बिल में राहत दी गई है. उन्होंने कहा कि, जो सक्षम लोग हैं, उन्हें बिजली बिल जमा करवाना चाहिए. हालांकि, बहुत से लोग इस समय छूट चाहते हैं.

पानी की नहीं होगी गर्मी में कमी
बीडी कल्ला ने कहा कि, कंटीजेंसी प्लान हमने अपने अनुभव के आधार पर पहले ही बना लिया था. उन्होंने आश्वस्त किया कि, पानी की कमी गर्मी के दौरन राज्य में नहीं होगी. हालांकि, बड़ी परियोजनाएं कुछ समय के लिए प्रभावित हो सकती हैं. मंत्री ने कहा कि, वर्ष 2013 से पहले 90 फीसदी राशि केंद्र सरकार देती थी, जो अब राशि महज 50 फीसदी हो गई है.

जल बचत पर कर रहे काम
उन्होंने कहा कि, हमने केंद्र सरकार को मांगपत्र भेजा हुआ है. जलशक्ति मंत्री राजस्थान के गजेंद्र सिंह शेखावत है, उनको भी मदद करनी चाहिए. मंत्री ने कहा कि, 2.50 लाख हैंडपंप अभी काम कर रहे हैं. सबको गर्मी के सीजन में ठीक करवाएंगे. साथ ही, मनरेगा (MNREGA) के जरिए एनीकट और तालाबों की मिट्टी निकाली जाएगी. इससे राजस्थान में जल संरक्षण की दिशा में काम होगा. साथ ही, हम जल बचत पर भी काम करेंगे.

पानी बचाने की अपील की
मंत्री ने लोगों से पानी बचाने की अपील करते हुए कहा कि, वाशरूम से ही हम 200 लीटर पानी बचा सकते हैं. छोटी जरूरत के लिए छोटा बटन फ्लश में काम आए और बड़ी आवश्यकता के लिए बड़ा बटन उपयोग में आए. उन्होंने कहा कि, पहले लोग मितव्ययता बरतते थे और पानी का बहु वैकल्पिक उपयोग करते थे.

पानी का किफायत उपयोग होना चाहिए
उन्होंने कहा कि, लोगों ने तो तीसरे विश्व युद्ध की घोषणा पानी के मसले पर कर रखी है. मनुष्य के जीवन में पानी की बहुत अधिक आवश्यकता है, इसे किफायत से उपयोग करना चाहिए. जल संरक्षण के लिए हमारे यहां विशेष कोशिश की जा रही है. डब्लूएसएसओ (WSSO) का निदेशालय हमारे यहां जल बचत पर काम कर रहा है.

मंत्री ने कहा कि, आज 300 मीटर का कोई भी मकान बनता है तो उसे, वाटर रिचार्ज की व्यवस्था करनी होती है. हमने हाल ही में 5000 मेगावॉट सौर ऊर्जा का उत्पादन एनटीपीसी (NTPC) के साथ शुरू किया. साथ ही, 5 हजार मेगावाट का अन्य करार प्रस्तावित है.

राजस्थान बनेगा सोलर पावर का हब
उन्होंने कहा कि, आने वाले वक्त में राजस्थान सोलर पावर (Solar Power) का हब बनेगा. साथ ही, 30 हजार मेगावाट सौर ऊर्जा के क्षेत्र में उत्पादन का हमारा प्रयास है. ऊर्जा की बचत ही बिजली का उत्पादन है. मंत्री ने कहा कि, कोरोना से जुड़े सभी प्रोटोकॉल लोग अपनाएं. मास्क और सैनिटाइजर को अपने जीवन का अहम अंग बनाएं. फिजिकल डिस्टेंसिन भी खरीद और कार्यस्थल पर बनाएं. हम सब मिलकर कोरोना से जंग जीतेंगे.