पानी की किल्लत ने खड़ा किया हंगामा, जलदाय दफ्तर पर जमकर मटका फोड़ प्रदर्शन

काफी दिनों से पेयजल समस्या से जूझ रहे ग्रामीणों ने जलदाय विभाग कार्यालय पहुंचकर जमकर नारेबाजी की और कार्यालय के बाहर खाली मटके फोड़कर प्रदर्शन किया.

पानी की किल्लत ने खड़ा किया हंगामा, जलदाय दफ्तर पर जमकर मटका फोड़ प्रदर्शन
पेयजल समस्या से जूझ रहे ग्रामीण

सीकर: जिले के खंडेला कस्बे की दायरा ग्राम पंचायत के वाशिंदों का पेयजल समस्या को लेकर गुस्सा फूट पड़ा. ग्राम की सैकड़ों महिला और पुरुष हाथों में तख्तियां और खाली मटके लेकर कस्बे के मुख्य मार्गों से रैली निकालते हुए जलदाय विभाग कार्यालय पहुंचे. काफी दिनों से पेयजल समस्या से जूझ रहे ग्रामीणों ने जलदाय विभाग कार्यालय पहुंचकर जमकर नारेबाजी की और कार्यालय के बाहर खाली मटके फोड़कर प्रदर्शन किया.
प्रदर्शन कर रही महिलाओं ने सहायक अभियंता कार्यालय में घुसकर अधिकारियों को भी खरी-खोटी सुनाई. ग्रामीणों ने बताया कि पिछले काफी दिनों से मांग के हिसाब से पेयजल आपूर्ति नहीं की हो रही है. वहीं पेयजल सप्लाई की लाइनों में गंदा पानी आ रहा है, जो पीने योग्य नहीं है. इसके समाधान के लिए ग्रामीणों ने जलदाय विभाग द्वारा पूर्व में बिछाई गई लाइनों की मरम्मत करवाने और मांग के अनुरूप आपूर्ति सुचारू करवाने की मांग दोहराई. ग्रामीणों की मांग पर पर जलदाय विभाग की सहायक अभियंता सुमित्रा चौधरी ने समस्या का जल्द समाधान देने का आश्वासन देकर मामला शांत करवाया.
पेयजल समस्या के समाधान के लिए प्रदर्शन कर रहे ग्रामीण ने बताया कि कस्बे में पिछले कई दिनों से पेयजल की समुचित आपूर्ति नहीं की जा रही है. वहीं जगह-जगह पाइप लाइन क्षतिग्रस्त होने की वजह से नलों में गंदा पानी आ रहा है। इस संबंध में विभागीय अधिकारियों को बार बारविभागीय अधिकारियों को बार-बार अवगत करवाने के बावजूद भी समाधान नहीं किया गया। मजबूरन आज ग्रामीणों को विरोध प्रदर्शन पर उतारू होना पड़ा.
सहायक अभियंता ने बताया कि पेयजल की समस्या के समाधान के लिए प्रपोजल बराकर पूर्व में ही उच्च अधिकारियों को भिजवाए जा चुके हैं. इस संबंध में उच्च अधिकारियों से आवश्यक दिशा-निर्देश हासिलकर शीघ्र समस्या का समाधान करवाया जाएगा. वहीं पूर्व में बिछाई गई लाइनों की मरम्मत का कार्य भी जल्द शुरू करवा दिया जाएगा.