नागौर: रेलवे ट्रेक की आड़ में ली जमीन, विधवा महिला ने राष्ट्रपति से मांगी इच्छामृत्यु

इस विधवा के खेत को रेलवे ट्रैक के लिए लिया किया गया. मगर छह साल बाद भी उसे मुआवजा नहीं मिला. इससे परेशान विधवा ने अब राष्ट्रपति से इच्छा मृत्यु मांगी है.

नागौर: रेलवे ट्रेक की आड़ में ली जमीन, विधवा महिला ने राष्ट्रपति से मांगी इच्छामृत्यु
इस विधवा के खेत को रेलवे ट्रैक के लिए लिया किया गया.

नागौर: राजस्थान के नागौर जिले के मकराना शहर की गरीब विधवा की ओर से गृहमंत्री अमित शाह (Amit Shah) से गुहार लगाकर राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद (Ram Nath Kovind) से इच्छा मृत्यु मांगने का मामला सामने आया है.

इस विधवा के खेत को रेलवे ट्रैक के लिए लिया किया गया. मगर छह साल बाद भी उसे मुआवजा नहीं मिला. इससे परेशान विधवा ने अब राष्ट्रपति से इच्छा मृत्यु मांगी है. जानकारी के अनुसार, मकराना शहर के रांदड भवन के पास रहने वाली मुन्नी देवी की आजीविका छह साल पहले कृषि भूमि से प्राप्त उपज पर ही आधारित थी.

उससे सरकार ने मकराना से परबतसर के बीच नया परिवर्तित रेलवे ट्रैक बिछाने के लिए, उसकी कृषि भूमि ली गई थी. ऐसे में चकडूंगरी खानें चालू हो गई, परबतसर के लिए रेल भी चल गई. परंतु मुआवजा नहीं मिलने से विधवा किसान के परिवार के भूखों मरने की नौबत आ गई.

छह साल से मुआवजा के लिए एसडीएम (SDM) कार्यालय व जिला कलेक्टर (DM) कार्यालय के चक्कर लगाने के बाद, अब महिला ने गृहमंत्री अमित शाह से इच्छा मृत्यु की मंजूरी देने की मांग राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से की है.